समाचार
|| निःशुल्क आवासीय प्रशिक्षण हेतु आवेदन आमंत्रित || सामाजिक समरसता की दिशा में कुंभ काफी उपयोगी-मुख्यमंत्री श्री चौहान || प्राचार्यों को समग्र शिक्षा पोर्टल पर साईकिलों के चेचिस नम्बर की प्रविष्टि कराने के निर्देश || पॉलीटेक्निक कॉलेज में दी गई सीनियर छात्राओं को बिदाई || केन्द्रीय आदिवासी विकास राज्यमंत्री का आज करेंगे आदिम जाति कल्याण से संबंधित योजनाओं की समीक्षा || आदि उत्सव के अंतिम दिन आज होगा सामूहिक विवाह तथा निकाह || जनजातीय शोध पत्रों का व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाना चाहिए-राज्य सभा सांसद || रुखमाबाई की बनाई चूड़ियाँ खरीदने आते है कई व्यापारी ‘‘सफलता की कहानी ’’ || चम्बल जलावर्धन योजना के स्थल चयन का शीघ्र पुनः निरीक्षण किया जावेगा - नगर पालिका अध्यक्ष श्री गुप्ता || मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना हेतु आवेदन आमंत्रित
अन्य ख़बरें
कोई भारिया बिना जमीन के नहीं रहेगा- मुख्यमंत्री श्री चौहान
सभी भारिया परिवारों के पक्के आवास बनाये जायेंगे, तथा भारिया भाषा के शिक्षक नियुक्त किये जायेंगे, छिन्दवाडा में बनेगा भारिया सांस्कृतिक केन्द्र और कम्प्यूटर प्रशिक्षण केन्द्र
छिन्दवाड़ा | 06-अप्रैल-2018
 
 
   प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश के सभी भारिया परिवारों को बिना जमीन के नहीं रहने दिया जायेगा। भारिया परिवार बरसों से जिस जमीन पर काबिज है, उन्हे उसका मालिकाना हक दिया जायेगा। उन्होंने कहा कि वन भूमि पर वर्षो से काबिज भारिया परिवार को हटाया नहीं जायेगा। ऐसे परिवारों को भूमि का पट्टा देने के लिये मध्यप्रदेश में विशेष अभियान चलाया जायेगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज जिले के पातालकोट क्षेत्र के ग्राम रातेड में आयोजित भारिया महासम्मेलन को मुख्य अतिथि के रूप में संबोधित कर रहे थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रदेश के अनुसूचित जाति कल्याण, जनजातीय कार्य, विमानन, नर्मदा घाटी विकास और सामान्य प्रशासन विभाग राज्य मंत्री श्री लाल सिंह आर्य ने की।
   मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि वन अधिकार अधिनियम के अंतर्गत जिन भारिया परिवारों को भूमि आवंटित की गई, ऐसे सभी भारिया परिवारों के खेतों में कुओं का निर्माण कराया जायेगा तथा परिस्थिति के अनुसार मोटर या डीजल पम्प उपलब्ध कराया जायेगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश के सभी भारिया परिवारों के आगामी 2 वर्षो में पक्के मकान बनाये जायेंगे। भारिया भाषा को संरक्षित करने के लिये 18 भारिया भाषायी शिक्षक नियुक्त किये जायेंगे। उन्होंने कहा कि भारिया संस्कृति को अक्षुण रखने के लिये छिन्दवाडा में भारिया सांस्कृतिक केन्द्र स्थापित किया जायेगा। मुख्यमंत्री ने भारिया समाज के लोगों से अपील करते हुये कहा कि वे अपने बच्चों को अच्छी शिक्षा देकर उन्हें आगे बढने के लिये प्रेरित और प्रोत्साहित करें। उन्होंने कहा कि वर्तमान समय कम्प्यूटर का है और कम्प्यूटर रोजगार का जरिया है, इसलिये बच्चों को कम्प्यूटर में प्रशिक्षित किये जाने के लिये छिन्दवाडा में एक कम्प्यूटर प्रशिक्षण केन्द्र खोला जायेगा जिससे बच्चे प्रशिक्षित होकर रोजगार से जुड़ सकें। साथ ही आई.टी.आई. में भी उन्हे विभिन्न प्रशिक्षण देकर उनके कौशल को बढाया जायेगा ताकि वे रोजगार के अच्छे क्षेत्रों से जुड़ सकें।
   मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि यह भारिया महासम्मेलन, सम्मेलन नहीं बल्कि भारिया जनजाति की जिदंगी बदलने का प्रयास है। उन्होंने कहा कि सभी भारिया बस्तियों में दीपावली तक बिजली पहुंचा दी जायेगी ताकि भारिया परिवार का घर रौशन हो सकें। उन्होंने भारिया जनजाति के बच्चों के लिये एकलव्य आवासीय विद्यालय खोलने की घोषणा भी की। उन्होंने कहा कि भारिया परिवारों के बच्चों को पहली से लेकर पी.एच.डी. तक निःशुल्क शिक्षा दी जायेगी। उन्होंने भारिया युवाओं से अपील करते हुये कहा कि वे अपनी क्षमताओं का प्रकटीकरण करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि भारिया आदिवासियों की एक स्वस्थ परम्परा है जिसे अक्षुण्ण रखने का प्रयास मध्यप्रदेश शासन द्वारा किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि 12वीं कक्षा तक पढ़ने वाली भारिया बालिकाओं को एन.एम.ए. का प्रशिक्षण देकर उन्हें स्वास्थ्य सेवा के कार्य में लगाया जायेगा। उन्होंने कहा कि भारिया बहुल क्षेत्र में भारिया आदिवासियों का स्वास्थ्य परीक्षण किया जायेगा तथा गंभीर रोग से पीड़ित होने पर उनका निःशुल्क उपचार किया जायेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश में अब असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों का पंजीयन कर उन्हें विभिन्न सुविधायें उपलब्ध कराई जायेगी। पंजीकृत श्रमिकों में 60 वर्ष की आयु के मुखिया की सामान्य मृत्यु होने पर उसके परिजनों को 2 लाख रूपये और दुर्घटना में मृत्यु होने पर 4 लाख रूपये की सहायता राशि दी जायेगी तथा स्थायी अपंगता होने पर भी 2 लाख रूपये की सहायता उपलब्ध कराई जायेगी। अंत्येष्टि के लिये 5 हजार रूपये की प्रोत्साहन राशि दी जायेगी। उन्होने कहा कि गर्भवती माताओं को 6 से 9 माह तक की समयावधि में गर्भावस्था के दौरान 4 हजार रूपये की राशि दी जायेगी जो उनके बैंक खाते में जमा होगी एवं बच्चे के जन्म के बाद ऐसी प्रसूता को 12 हजार रूपये की राशि अलग से दी जायेगी। उन्होंने कहा कि अचार, चिरौंजी और महुआ खरीदी के लिये लघु वनोपज खरीदी केन्द्र खोले जायेंगे और महुआ 30 रूपये प्रति किलो एवं अचार की गुठली 150 रूपये प्रति किलो की दर पर खरीदी जायेगी। उन्होंने कहा कि पातालकोट क्षेत्र की भारिया बहनों के बैंक खाते में प्रतिमाह एक हजार रूपये जमा किये जायेंगे जिससे वे अपने बच्चों का पालन-पोषण करने के साथ ही अपनी जरूरतों को भी पूरा कर सकेंगी। उन्होंने कहा कि तेंदूपता संग्राहकों अब 2 हजार रूपये प्रति मानक बोरा पारिश्रमिक दिया जायेगा तथा चरण पादुका योजना के अंतर्गत जूते और चप्पल उपलब्ध कराये जायेंगे। उन्होंने कहा कि पातालकोट क्षेत्र की सभी बस्तियों में नलजल योजना की व्यवस्था की जायेगी जिससे शुध्द पेयजल मिल सके।
  मुख्यमंत्री श्री चौहान ने विभिन्न विकास योजनाओं के अंतर्गत 36 करोड 98 लाख 35 हजार रूपये के कार्यो का लोकार्पण और भूमिपूजन किया और 7 भारिया युवाओं को पुलिस में आरक्षक के पद पर सीधी भर्ती के नियुक्ति पत्र प्रदान किये। उन्होंने लाडली लक्ष्मी योजना के प्रमाण पत्र प्रदान करने के साथ ही उज्जवला गैस योजना के अंतर्गत रसोई गैस वितरित किये। उन्होंने सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत करने वाले नर्तक दल को 25 हजार रूपये की नगद प्रोत्साहन राशि भी प्रदान की। उन्होंने प्रारंभ में कन्या पूजन किया और तिलक लगाकर कन्याओं का आशीर्वाद प्राप्त किया। कार्यक्रम में भारिया विकास प्राधिकरण की अध्यक्ष श्रीमती उर्मिला भारती, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती कांता ठाकुर, विधायकगण सर्वश्री नत्थनशाह कवरेती, चौधरी चन्द्रभान सिंह, पं.रमेश दुबे एवं नानाभाऊ मोहोड, नगर पंचायत पिपलानारायणवार के अध्यक्ष श्री नरेन्द्र परमार, श्री उत्तम ठाकुर और श्री रमेश पोफली विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित थे। सम्मेलन में प्रदेश के विभिन्न जिलो से बड़ी संख्या में आये और छिन्दवाडा जिले के भारिया समाज के पुरूष और महिलायें, जनप्रतिनिधिगण, विभिन्न संगठनों के पदाधिकारी, संभाग आयुक्त श्री गुलशन बामरा, आई.जी. श्री सिंह, कलेक्टर श्री जे.के.जैन. डी.आई.जी. डॉ.जी के पाठक, पुलिस अधीक्षक श्री गौरव तिवारी, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री रोहित सिंह, जिला प्रशासन के अन्य अधिकारी, पत्रकार तथा बड़ी संख्या में ग्रामीणजन उपस्थित थे।
 
(20 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मार्चअप्रैल 2018मई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2627282930311
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
30123456

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer