समाचार
|| पहले 5 हजार, अब 15 हजार रुपये कमाते हैं हीरा (सफलता की कहानी) || नवोदय विद्यालय की प्रवेश परीक्षा 21 अप्रैल को || जिले में 22 अप्रैल को होगा नेशनल लोक अदालत का आयोजन || राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग के सदस्‍य श्री कानूनगो 23 को नीमच में || प्रधानमंत्री एक्‍सीलेंस अवार्ड का सीधा प्रसारण 21 को होगा || पक्का मकान बन जाने से खुश हैं खरगो बाई ‘सफलता की कहानी’ || जवाहर नवोदय चयन परीक्षा 21 अप्रैल को होगी || मुख्‍यमंत्री तीर्थदर्शन योजना तहत यात्रा आवेदन आमंत्रित || नीमच में 3 लाख 22 हजार 124 श्रमिकों का पंजीयन || अनुसूचित जाति सलाहकार समिति की बैठक 26 को
अन्य ख़बरें
गर्मी में पर्याप्त शीतल जल की व्यवस्था
पंचक्रोशी यात्रा 11 अप्रैल से प्रारम्भ होगी, कलेक्टर ने प्रशासनिक अधिकारियों के साथ 118 किमी की यात्रा बस से की
उज्जैन | 06-अप्रैल-2018
 
  
   वैशाख मास में शिप्रा स्नान व श्री नागचन्द्रेश्वर पूजन के पश्चात पंचक्रोशी यात्रा 11 अप्रैल से प्रारम्भ होगी। यह यात्रा 118 किलो मीटर की परिक्रमा करने के बाद कर्क तीर्थवास में समाप्त होगी। भीषण गर्मी में आस्था रहेगी भारी। हजारों यात्री उज्जयिनी के आसपास स्थित चार द्वारपालों के दर्शन करेंगे। कलेक्टर श्री संकेत भोंडवे ने प्रशासनिक अधिकारियों के साथ 118 किलो मीटर की यात्रा बस से की। पड़ाव एवं उप पड़ाव स्थलों पर कलेक्टर ने सम्बन्धित विभागों के अधिकारियों को यात्रियों की सुविधाओं के लिये हुए व्यापक व्यवस्थाएं करने के निर्देश दिये। पड़ाव स्थलों पर पर्याप्त प्रकाश, साफ-सफाई, स्नान एवं शौचालय, टेन्ट आदि सामग्री, पेयजल आदि की व्यवस्थाएं सुनिश्चित करने के निर्देश दिये।
   कलेक्टर एवं प्रशासनिक अधिकारियों ने सर्वप्रथम पटनी बाजार स्थित श्री नागचन्द्रेश्वर मन्दिर से यात्रा प्रारम्भ की। तत्पश्चात उंडासा, पिंगलेश्वर, करोहन, नलवा, अंबोदिया, कालियादेह, जैथल पड़ाव उप पड़ाव स्थलों का निरीक्षण किया। कलेक्टर ने उंडासा पड़ाव स्थल के निरीक्षण के दौरान होमगार्ड के कमांडेंट को निर्देश दिये कि तालाब में पानी होने के कारण यहां बोट, जवान आदि की व्यवस्था की जाये। पड़ाव स्थलों पर साईन बोर्ड आदि लगाये जायें। पिंगलेश्वर पड़ाव स्थल पर पूर्व सरपंच श्री अब्दुल रशीद खान ने कलेक्टर को अवगत कराया कि उनकी निजी भूमि पर आम के बगीचे में उनके पूर्वजों के जमाने से तीर्थ यात्रियों को पेयजल की व्यवस्था की जाती रही है। कलेक्टर ने उनकी प्रशंसा की और अनुरोध किया कि पुण्य के इस कार्य में वे अन्य लोगों को सहयोग के लिये प्रेरित करें। कलेक्टर ने करोहन पड़ाव स्थल के निरीक्षण के दौरान जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री संदीप जीआर को निर्देश दिये कि वे प्रत्येक पड़ाव-उप पड़ाव स्थलों पर नोडल अधिकारी नियुक्त करें। जिन अधिकारी-कर्मचारियों की ड्यूटी पड़ाव स्थलों पर लगाई गई है वे पूर्ण ईमानदारी के साथ अपने कर्त्तव्य स्थल पर सेवाएं दें। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को निर्देश दिये गये कि पड़ाव स्थलों पर पर्याप्त मात्रा में दवाई, मलहम आदि की व्यवस्था की जाये। यात्रा मार्ग में चलित चिकित्सा वाहन भी उपलब्ध कराया जाये। करोहन के सरपंच ने कलेक्टर को अवगत कराया कि सड़क के दोनों ओर जहां-जहां गड्ढे हैं, उन्हें गिट्टी, मुरम आदि से भरकर समतलीकरण करवाया जाना चाहिये। कलेक्टर ने लोक निर्माण विभाग के अधिकारी को निर्देश दिये हैं कि गड्ढे भरकर समतलीकरण का कार्य यात्रा के पूर्व कराया जाये।
   कलेक्टर ने कहा कि पड़ाव उप पड़ाव स्थलों पर जिन अधिकारी-कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई जायेगी और उनके द्वारा बेहतर कार्य करने पर उन्हें सम्मानित किया जायेगा। पेयजल  व्यवस्था का जिम्मा लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग को सौंपा गया है। दुग्ध संघ के अधिकारी को निर्देश दिये गये कि वह प्रत्येक पड़ाव पर ठण्डे पानी के टेंकर लगाये जायें। कलेक्टर ने विद्युत मण्डल के अधिकारी को निर्देश दिये गये कि वह विद्युत व्यवस्था के लिये समस्त पड़ाव स्थलों पर जनरेटर की व्यवस्था करे। कलेक्टर ने नलवा के भ्रमण के बाद ग्राम अंबोदिया के पड़ाव स्थल का निरीक्षण किया। कलेक्टर ने निर्देश दिये कि यात्रा के दौरान यात्रियों को परेशानियों का सामना न करना पड़े, इसलिये अधिकारी-कर्मचारी सौंपे गये दायित्वों का निर्वहन सेवा भावना के साथ किया जाये। वैशाख माह में यात्रा होने से भीषण गर्मी रहने के कारण पड़ाव स्थलों पर छाया हेतु पर्याप्त मात्रा में टेन्ट लगाये जायें। कलेक्टर ने जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी को निर्देश दिये कि यात्रा के दो दिन पूर्व अधिकारी-कर्मचारियों के ड्यूटी आदेश जारी कर उन्हें ड्यूटी स्थल पर पहुंचने हेतु कहा जाये। अधिकारियों ने कालियादेह पैलेस एवं जैथल पड़ाव स्थलों का भी निरीक्षण किया।
   पंचक्रोशी यात्रा मार्ग के भ्रमण के दौरान जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री संदीप जीआर, नगर निगम आयुक्त डॉ.विजय कुमार जे., एडीएम श्री जीएस डाबर, अनुविभागीय अधिकारी उज्जैन श्री क्षितिज शर्मा, घट्टिया एसडीएम श्री एसआर सोलंकी सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।
   पंचक्रोशी यात्रा में दूर-दराज से बड़ी संख्या में श्रद्धालु भाग लेते हैं। श्री नागचन्द्रेश्वर से पिंगलेश्वर पड़ाव स्थल की दूरी 12 किलो मीटर, पिंगलेश्वर से श्री कायावरोहणेश्वर पड़ाव स्थल की दूरी 23 किलो मीटर, कायावरोहणेश्वर से नलवा उप पड़ाव की दूरी 20 किलो मीटर, नलवा उप पड़ाव से बिल्केश्वर अंबोदिया पड़ाव स्थल की दूरी 7 किलो मीटर, अंबोदिया पड़ाव स्थल से कालियादेह उप पड़ाव स्थल की दूरी 21 किलो मीटर, कालियादेह से जैथल दुर्देश्वर पड़ाव स्थल की दूरी 7 किलो मीटर, दुर्देश्वर पड़ाव स्थल से उंडासा की दूरी 16 किलो मीटर और उंडासा उप पड़ाव से शिप्रा घाट की दूरी 12 किलो मीटर इस प्रकार पंचक्रोशी यात्रा का मार्ग 118 किलो मीटर लम्बा है।
   उज्जयिनी तीर्थ नगरी के रूप में मान्यता प्राप्त है। भारत के प्रमुख द्वारदश ज्योतिर्लिंग में उज्जैन में श्री महाकाल विराजित हैं। महाकालेश्वर तीर्थ के मध्य में स्थित है। तीर्थ के चारों दिशाओं में क्षेत्र की रक्षा के लिये भगवान महादेव ने चार द्वारपाल शिव रूप में स्थापित किये, जो धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष प्रदाता हैं, जिसका उल्लेख स्कंदपुराण के अवन्तिखण्ड में मिलता है। इन्हीं चार द्वारपाल की कथा, पूजा और परिक्रमा का विशेष महत्व है। पंचक्रोशी की यात्रा के मूल में इसी विधान की भावना है। पंचक्रोशी यात्रा में शिव के पूजन, अभिषेक, उपवास, दान, दर्शन की ही प्रधानता धार्मिक ग्रंथों में मिलती है। स्कंदपुराण के अनुसार अवन्तिका के लिये वैशाख मास अत्यन्त पुनीत है। इसी वैशाख मास के मेष के मेषस्थ सूर्य में वैशाख कृष्ण दशमी से अमावस्या तक इस पुनीत पंचक्रोशी यात्रा का विधान है। उज्जैन का आकार चौकोर है। क्षेत्र के रक्षक देवता श्री महाकालेश्वर का स्थान मध्य बिन्दु में है। इस बिन्दु के अलग-अलग अन्तर से मन्दिर स्थित है, जो द्वारपाल कहलाते हैं। इनमें पूर्व में पिंगलेश्वर, दक्षिण में कायावरोहणेश्वर, पश्चिम में बिल्केवर, तथा उत्तर में दुर्देश्वर महादेव के मन्दिर स्थापित हैं, जो चौरासी महादेव मन्दिर श्रृंखला के अन्तिम चार मन्दिर हैं।   
(13 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मार्चअप्रैल 2018मई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2627282930311
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
30123456

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer