समाचार
|| निःशुल्क आवासीय प्रशिक्षण हेतु आवेदन आमंत्रित || सामाजिक समरसता की दिशा में कुंभ काफी उपयोगी-मुख्यमंत्री श्री चौहान || प्राचार्यों को समग्र शिक्षा पोर्टल पर साईकिलों के चेचिस नम्बर की प्रविष्टि कराने के निर्देश || पॉलीटेक्निक कॉलेज में दी गई सीनियर छात्राओं को बिदाई || केन्द्रीय आदिवासी विकास राज्यमंत्री का आज करेंगे आदिम जाति कल्याण से संबंधित योजनाओं की समीक्षा || आदि उत्सव के अंतिम दिन आज होगा सामूहिक विवाह तथा निकाह || जनजातीय शोध पत्रों का व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाना चाहिए-राज्य सभा सांसद || रुखमाबाई की बनाई चूड़ियाँ खरीदने आते है कई व्यापारी ‘‘सफलता की कहानी ’’ || चम्बल जलावर्धन योजना के स्थल चयन का शीघ्र पुनः निरीक्षण किया जावेगा - नगर पालिका अध्यक्ष श्री गुप्ता || मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना हेतु आवेदन आमंत्रित
अन्य ख़बरें
जैविक खेती से आमदनी बढ़ी " सफलता की कहानी"
-
विदिशा | 04-अप्रैल-2018
 
   कृषक राजेन्द्र सिंह दांगी ने जैविक खेती से कृषि को लाभ का धंधा बनाया है। बासौदा विकासखण्ड के ग्राम जरौद के राजेन्द्र सिंह दांगी ने बताया कि पहले रासायनिक उर्वरक और दवाईयों का प्रयोग कर खेती करता आ रहा था। जिसमें लागत अधिक आ रही थी और मुनाफा कम हो रहा था। आत्मा परियोजना के अधिकारी सूर्यभान सिंह थानेश्वर के सम्पर्क में आने पर उनके द्वारा मुझे जैविक खेती करने की सलाह दी गई। मैंने शुरूआत में एक एकड़ में जैविक खेती का प्रयोग करते हुए गेहूं एचआई 1544 बोया। जिसमें जैविक खादों एवं दवाईयों का प्रयोग किया। जिसमें मुख्य रूप से नीम आइल+गौमूत्र से बीज उपचार, वर्मी कम्पोस्ट, गोबर गैस खाद तथा वर्मी वास और एफबायएम शामिल है।  
   कृषक राजेन्द्र सिंह दांगी का कहना है कि मुझे गेहूं का उत्पादन पौने 17 क्विंटल प्राप्त हुआ और गेहूं की कीमत बाजार में 2950 रूपए बाजार में प्राप्त हुई। इस हिसाब से मुझे शुद्ध आय 49 हजार 412 रूपए की प्राप्त हुई है जैविक खेती में खाद व दवा का खर्च भी शून्य हो गया। मिट्टी की उर्वरक शक्ति बढ़ी है। जहां पहले रासायनिक खादो का उपयोग करता था तो आमदनी 35245 रूपए हो रही थी जबकि जैविक खाद ने यही आमदनी 49412 रूपए कर दी है।
   कृषक राजेन्द्र सिंह दांगी का कहना है कि जैविक खेती के मुनाफे को मैंने देखा है वही जैविक खेती के उपयोग में लाए जाने वाले तत्व सुगमता से प्राप्त किए जा सकते है बशर्त हमें जागरूकता का परिचय देना होगा। रासायनिक खादों पर अनाप-शनाप राशि व्यय होती है वही शारीरिक स्वास्थ्य पर प्रतिकूल असर पड़ता है। जैविक खेती कृषि को लाभ का धंधा बना रही है वही पर्यावरण को संतुलित करने में भी योगदान दे रही है। आस-पास क्षेत्र के कृषकों ने जैविक खेती से हुए फायदे को अपनी आंखो से देखा है और जैविक खेती के संबंध में कृषक श्री राजन सिंह दांगी के मोबाइल नम्बर 9893587673 पर सम्पर्क कर रहे है। श्री दांगी का कहना है कि किसानों को बताकर मुझे अंदर से सुख की अनुभूति हो रही है।
 
(22 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मार्चअप्रैल 2018मई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2627282930311
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
30123456

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer