समाचार
|| मंत्री श्री गुप्ता ने जिला चिकित्सालय के नवीनीकृत वार्ड एक एवं तीन का किया लोकार्पण || लोकतंत्र सेनानियों का ताम्रपत्र देकर किया सम्मान || तीर्थयात्रियों की सुविधा के लिए 2 अनुरक्षक नियुक्त || प्रभारी मंत्री श्री गुप्ता ने किया श्रमदान कार्यक्रम का शुभारंभ || मुख्यमंत्री तीर्थदर्शन ट्रेन 25 को जाएगी वैष्णोदेवी जी || फल एवं साग भाजी परिरक्षण कार्यशाला का शुभारम्भ || वनाधिकार समिति की बैठक संपन्न || विकासखण्ड पन्ना में स्वरोजगार सम्मेलन एवं रोजगार मेला आयोजित || मंत्री श्री ओमप्रकाश धुर्वे का दौरा कार्यक्रम निरस्त || राज्यमंत्री श्री पाटीदार का विधानसभा क्षेत्र का भ्रमण कार्यक्रम
अन्य ख़बरें
ओलावृष्टि से हुई फसलों के नुकसान की भरपाई राहत राशि और फसल बीमा को मिलाकर की जाएगी
प्रभावित फसलों का शीघ्र किया जायेगा सर्वेक्षण, किसान ओलावृष्टि से क्षतिग्रस्त फसलों की सूचना, टोल फ्री नंबर पर 72 घंटे के अंदर दर्ज करायें, कलेक्टर ने दिये निर्देश
टीकमगढ़ | 14-फरवरी-2018
 
 
    कलेक्टर श्री अभिजीत अग्रवाल ने हाल ही में जिले में हुई ओलावृष्टि पर चिंता जाहिर करते हुए कहा कि ओलावृष्टि से जिन किसानों की फसलें प्रभावित हुई है उनका सर्वे नोटिफिकेशन से शुरू हो गया है। उन्होंने कहा कि प्रभावित किसानों को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत पूरा मुआवजा दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि शासन के निर्देशानुसार जिले में हुई ओलावृष्टि से प्रभावित फसलों के नुकसान की भरपाई राहत राशि और फसल बीमा को मिलाकर की जाएगी। उन्होंने बताया कि शासन के निर्देशानुसार किसानों की मेहनत का पूरा मूल्य दिलाने के लिए मुख्यमंत्री कृषि उत्पादकता योजना लागू की जाएगी। इस योजना में गेहूं-धान का समर्थन मूल्य के अतिरिक्त 200 रुपए प्रति क्विंटल प्रोत्साहन राशि दी जाएगी। ज्ञातव्य है कि गत दिवस कई स्थानों पर हुई ओलावृष्टि से जिले में गेहूं एवं अन्य फसलों को नुकसान हुआ है।
किसान ओलावृष्टि से क्षतिग्रस्त फसलों की सूचना
टोल फ्री नंबर पर 72 घंटे के अंदर दर्ज करायें
    श्री अग्रवाल ने कहा कि बारिश एवं ओले से खड़ी फसलों में यदि कृषक भाईयों का नुकसान हुआ है तो क्षेत्र के बीमित कृषक अधिकृत बीमा कम्पनी एचडीएफसी इर्गो के टोल फ्री नं. 18002660700 एवं ruralclaims@hdfc.ergo.com पर शिकायत तत्काल दर्ज करायें। दर्ज शिकायत का पंजीयन होने के पश्चात सर्वे कार्य बीमा प्रतिनिधियों के द्वारा भी किया जायेगा। कृषकों द्वारा शिकायत 72 घंटे के अंदर दर्ज कराना आवश्यक है। उन्होंने उप संचालक कृषि एवं सभी संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया है कि कृषि विभाग के समस्त ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारियों एवं पटवारियों के साथ बीमा कम्पनी के प्रतिनिधि संयुक्त रूप से सर्वे कार्य करने के पश्चात शीघ्र रिर्पोट प्रस्तुत करें। उन्होंने कहा कि किसानों को घबराने की जरूरत नहीं हैं, क्योंकि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में उन्हें मुआवजा मिल सकता है। बीमा दावा देने के लिए अब खेत को इकाई बनाया गया है। यानी किसी गांव में एक किसान के खेत में ही नुकसान होता है तो इसके नुकसान की भरपाई बीमा कंपनी करेगी।
 
(98 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अप्रैलमई 2018जून
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
30123456
78910111213
14151617181920
21222324252627
28293031123
45678910

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer