समाचार
|| शिवना सौंदर्यीकरण एवं संरक्षण अभियान का 27 वां दिन || मुख्यमंत्री श्री चौहान 30 मई को मंदसौर आएंगे || कलेक्टर ने किया गेहूँ खरीदी केन्द्रों का निरीक्षण || मंत्री श्रीमती माया सिंह ने 10 लाख रूपए से अधिक की राशि के 7 टैंकरों का किया लोकार्पण || बिजली व सड़क निर्माण के क्षेत्र में प्रदेश में क्रांतिकारी काम हुए – श्री पवैया "विकास एवं जनसंवाद यात्रा" || उपनगर ग्वालियर को जल्द मिलेगी 100 बिस्तरों के अस्पताल की सौगात - स्वास्थ्य मंत्री श्री रूस्तम सिंह || मंत्री श्री कुशवाह ने वार्ड-34 में निकाली विकास यात्रा || सांसद श्री प्रभात झा आज आर्थिक सहायता के चैक वितरित करेंगे || मारूति सुजकी 10 हजार आई.टी.आई. के विद्यार्थियों को देगी रोजगार || म.प्र. राज्य ओपन एवं रूक जाना नहीं की परीक्षा 9 जून से
अन्य ख़बरें
समूह की संवेदनशील पहल, बोध बच्ची का सहारा बना स्व सहायता समूह "सफलता की कहानी"
‘‘मां की ममता, पिता का दुलार समूह ने दिया लक्ष्मी को संस्कार‘‘
अनुपपुर | 12-फरवरी-2018
 
 
   जिसका कोई नही उसका भगवान होता है, यह कहते तो सभी को सुना है पर ग्राम उमरगुहान के आरती स्वसहायता समूह की दीदियो ने इसे चरितार्थ करके ममता और प्यार की मिशाल कायम की है।
   ग्राम उमरगुहान, ग्राम पंचायत पोडकी, संकुल भेजरी, विकासखण्ड पुष्पराजगढ़ जिला अनूपपुर में दलपत सिह का परिवार पत्नि बसंता और बेटी लक्ष्मी के साथ निवास करता था। परिवार मजदूरी करके अपना जीवन यापन करता था, साथ ही बसंता आरती समूह की सदस्य भी थी। आवश्यकता पडने पर समूह से कर्ज लेकर अपनी जरूरते पूरा कर समूह का ऋण चुका देती थी, समूह पर उसे पूरा विश्वास था, वह समूह की प्रत्येक बैठक में हिस्सा लिया करती थी। समूह के सदस्य भी समूह के प्रति उसकी लगन को देख उसकी प्रशंसा करते थे।
   अचानक बंसता बीमार हो गई, बहुत इलाज कराया गया पर बंसता की मृत्यु हो गयी। उस समय बेटी लक्ष्मी 6 माह की थी। अब उसके पालन पोषण की जिम्मेदारी पिता दलपत पर आ गई, लेकिन नियति को कुछ और ही मंजूर था, दो माह बाद पिता दलपत की भी मृत्यु हो गई। लक्ष्मी की परवरिश की जिम्मेदारी अब वृद्ध दादी के हाथों थी, पर वह आपनी अवस्था के करण स्वयं की भी देखभाल नही कर पा रही थी, 8 माह की बच्ची भूख प्यास से बिलखती रहती थी, स्थिति दिनो दिन बिगडती जा रही थी। समूह के सदस्यों को उनकी हालत देख बहुत दुख हो रहा था, समझ नही आ रहा था की करें भी तो क्या। अंततः समूह की बैठक में इस विषय पर चर्चा की गयी की यदि शीघ्र ही कोई निर्णय नही लिया गया तो मां बाप की तरह लक्ष्मी भी जिंदा नही बचेगी। समूह सदस्यों ने आखिरकार यह निर्णय लिया की सदस्य श्रीमति श्यामवती का बच्चा छोटा है, वह अपने बच्चे के साथ-साथ लक्ष्मी को भी मां का प्यार देगी और लक्ष्मी की परवरिश का पूरा खर्च समूह द्वारा उठाया जायेगा।
   अब लक्ष्मी 3 वर्ष की हो गयी है, वह आंगनवाडी जाने लगी है, समूह सदस्यों के घर खेलती रहती है, समूह सदस्य भी उसका ध्यान रखते हैं, वह सबकी लाडली हो गई है। समूह के सभी सदस्य मिलकर उसकी दादी के नाम से उसकी बचत जमा करते है अब उसकी बचत 2430 रू हो गयी है। आंगनवाडी से लाडली लक्ष्मी योजना का पंजीयन हो गया है, समूह के निर्यण अनुसार सुकन्या योजना हेतु प्रक्रिया की जा रही है।
   समूह की इस पहल से ग्राम में ही नही अन्य गामों में भी सभी  गरीब बच्चो एवं वृद्धो की परवरिश एवं योजनाओं से लाभ दिलाने की चर्चा समूह में प्राथमिकता से की जाने लगी  है।
 
(105 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अप्रैलमई 2018जून
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
30123456
78910111213
14151617181920
21222324252627
28293031123
45678910

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer