समाचार
|| मुंगावली विधानसभा उपचुनाव हेतु 36 सेक्‍टर अधिकारी नियुक्त || जनसुनवाई में 61 आवेदन प्राप्त || निर्वाचक नामावली का अंतिम प्रकाशन 19 जनवरी को || प्रेरणा संवाद कार्यक्रम 30 जनवरी तक || स्वीप पार्टनर्स की बैठक 15 जनवरी को || कृषक ने पेश की ईमानदारी की मिसाल || निर्वाचन नामावली के विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण का अंतिम प्रकाशन 19 जनवरी को || पल्सपोलियो अभियान डिस्ट्रिक्ट टास्क फोर्स समिति की बैठक 22 जनवरी को || गाम न्यायालय की बैठकों का कैलेण्डर निधारित || मुख्‍यमंत्री महिला सशक्तिकरण योजना के तहत प्रशिक्षण हेतु आवेदन बुलाए
अन्य ख़बरें
जिले में कुक्कुट पालन लेयर फार्मिंग से सैकड़ों ग्रामीण महिलाओं की हो रही है आर्थिक उन्नति ''''सफलता की कहानी''''
-
अनुपपुर | 14-जनवरी-2018
 
   
    अनूपपुर जिला आदिवासी अंचल है। आदिवासी परिवारों द्वारा परम्परागत रूप से कुक्कुट पालन का कार्य किया जाता है। उनकी इस अभिरुचि को देखते हुए जिला प्रशासन द्वारा प्रधानमंत्री खनिज क्षेत्र कल्याण योजना के तहत लेयर फार्मिंग से अण्डा उत्पादन का कार्य बड़े पैमाने पर शुरु किया गया है। इसके लिए कुक्कुट पालन करने वाले परिवारों द्वारा मैकल लेयर प्रोड्यूसर कंपनी बनाई गई है। जिसका संचालन इन्हीं लोगों द्वारा चयनित पदाधिकारियों द्वारा किया जाता है। इस कार्य में महिला को प्रतिदिन लगभग 3 घंटे काम करना होता है। इस कार्य से उन्हें 3 से 4 हजार रु. तक की आय हो जाती है। मैकल लेयर प्रोड्यूसर कंपनी का संचालन इन्हीं महिलाओं के हाथ में होने से ये महिलाएं प्रतिदिन अपने उत्पादन का हिसाब-किताब रखती हैं। ग्राम स्तर तक अण्डा संग्रहण केन्द्र बनाए गए हैं, जहां प्रतिदिन ये महिलाएं उत्पादित अण्डा जमा कर अपनी डायरी में विवरण दर्ज कराती हैं। अण्डों का विक्रय बाजार से जुड़ा हुआ है। कम्पनी के सुपरवाईजर प्रतिदिन बाजार भाव पता कर इनका विक्रय करते हैं तथा बाजार दर की जानकारी सेंटर में प्रदर्शित करते हैं। मासिक रूप से लाभ की राशि इन महिलाओं को सार्वजनिक रूप से वितरित की जाती है।
    प्रत्येक वर्ष मैकल लेयर प्रोड्यूसर कंपनी की आमसभा में वर्षभर का आय-व्यय पत्रक प्रस्तुत किया जाता है। लाभ की स्थिति में शेष राशि बोनस के रूप में इन उत्पादकों को वितरित की जाती है। कंपनी द्वारा इन आदिवासी महिलाओं को प्रथम तौर पर कुक्कुट पालन का प्रशिक्षण दिलाया गया है। जिले में इस कार्य से 700 परिवारों को जोड़ने का लक्ष्य है। वर्तमान में 100 परिवारों को जोड़ा गया है। जिन परिवारों का प्रशिक्षण पूरा हो जाता है, उन्हें प्रधानमंत्री खनिज क्षेत्र कल्याण योजना से एक लाख 82 हजार रु. का शेड तथा नासिक के कस्तूरी फार्म से बीव्ही-300 प्रजाति की 400 मुर्गियां दी जाती हैं। इन मुर्गियों की विशेषता है कि वे 18 सप्ताह से लेकर 72 वें सप्ताह तक अर्थात् वर्ष में 340 दिन नियमित रूप से अण्डे देती हैं। मुर्गियों की देखरेख, भोजन तथा दवाई आदि की व्यवस्था के लिए कंपनी द्वारा दो डॉक्टर डॉ. वीरेन्द्र विक्रम तथा डॉ. तुषार मासिक वेतन पर रखे गए हैं। जिनकी शिक्षा व्ही.बी.एस.सी. है। ये डॉक्टर पूरे क्षेत्र में जहां भी लेयर फार्मिंग का कार्य चल रहा है भ्रमण कर तकनीकी मार्गदर्शन एवं समय पर चिकित्सा उपलब्ध कराते हैं।
    कलेक्टर श्री अजय शर्मा ने बताया कि शहडोल संभाग के तीनों जिलों तथा पेन्ड्रा आदि को मिलाकर 2 लाख अण्डों की दैनिक खपत है। वर्तमान में ये अण्डे रायपुर, जबलपुर तथा हैदराबाद से आयात किए जाते हैं। हमारा लक्ष्य है कि इन अण्डों की पूर्ति जिले की आदिवासी महिलाओं के माध्यम से कराई जाकर उनकी आर्थिक उन्नति का साधन बनाया जाय। वर्तमान में जैतहरी एवं पुष्पराजगढ़ जनपद पंचायत के 200 परिवारों द्वारा यह कार्य शुरु किया गया है। शीघ्र ही 700 परिवारों को जोड़ा जाना है। इस कार्य से कंपनी का टर्नओवर 9 करोड़ रु. वार्षिक अनुमानित है।
    ग्राम खुरसा की रहने वाली 35 वर्षीय श्रीमती कुसुम बाई ने बताया कि वे और उनके पति मनरेगा में मजदूरी का कार्य करते थे, जिससे परिवार संचालन ठीक से नहीं हो पा रहा था। इस कार्य से जुड़ जाने पर अब 4 हजार रु. की आय सुनिश्चित हो गई है। जिससे पिछले छः महीनों में मैं रहने के लिए घर बनवा रही हूं तथा बच्चों को भी नियमित रूप से पढ़ाई के लिए स्कूल भेजने लगी हूं। इस कार्य को प्रारंभ करने से मुझे मजदूर की जगह मालिक होने का अहसास हो रहा है। काम भी अत्यंत सरल है। सुबह मात्र तीन घंटे की मेहनत से ही हमारी आवश्यकताओं की पूर्ति होने लगी है। साथ ही बच्चों के खाने के लिए भी अण्डे मिल जाते हैं, जिससे उनके स्वास्थ्य में निरन्तर सुधार हो रहा है।  
(2 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
दिसम्बरजनवरी 2018फरवरी
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
25262728293031
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
2930311234

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer