समाचार
|| मुख्यमंत्री जी की प्रस्तावित यात्रा के दिन शहर में प्रभावशील रहेगी धारा 144 || तीन लाख 9 हजार नये पात्र परिवारों के लिये सस्ता राशन आवंटित || लापरवाही बरतने वाले चिकित्सक एवं कर्मचारियों पर कार्यवाही || श्रमोदय विद्यालय में प्रवेश हेतु आवेदन 30 दिसम्बर तक आमंत्रित || मुख्यमंत्री स्वेच्छानुदान से 16 हितग्राहियों को 11 लाख 25 हजार की स्वीकृति || स्वच्छता सर्वेक्षण के प्रति जागरूक करने आज निकाली जाएगी दो पहिया वाहन रैली || मुख्यमंत्री स्वरोजगार एवं कौशल सम्मेलन आज मंदसौर में || गांव को बदलना है तो युवाओं को योजनाओं में यहयोगी बनना होगा - सांसद श्री गुप्ता || श्रमोदय आवासीय विद्यालय में प्रवेश हेतु आवेदन आमंत्रित || मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन यात्रा हेतु आवेदन आमंत्रित यात्रा 4 जनवरी को पुरी जायेगी
अन्य ख़बरें
सदियों पुराने वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम को देखकर अचंभित रह गया असम का प्रेस दल
दल ने सांची स्तूप तथा उदयगिरी की गुफाओं का भी किया भ्रमण
रायसेन | 01-दिसम्बर-2017
 
 
    असम प्रदेश के 15 सदस्यीय पत्रकारों के दल ने रायसेन किला तथा सांची बौद्ध स्तूप का भ्रमण किया। दल के सदस्यों ने विश्व धरोहर सांची पहुंच कर बौद्ध स्तूप, अशोक स्तम्भ, बौद्ध विहार और संग्रहालय का अवलोकन कर ऐतिहासिक एवं पुरातात्विक तथ्यों को जाना। भ्रमण के पश्चात दल के सदस्यों ने कहा कि सांची पूरी दुनिया में प्रेम और शांति के लिए प्रसिद्ध है। यहां आकर हम शांति का अनुभव कर रहे हैं। दल के सदस्य स्तूप परिसर में स्थित तोरण द्वार, मंदिरों पर उकेरी गई जातक कथाओं पर आधारित आकृतियों को देखकर तथा उनके महत्व को जानकर अभिभूत हो गए।
    रायसेन किले के भ्रमण के दौरान दल के सदस्यों ने किला परिसर में बने सोमेश्वर महादेव का मंदिर, हवा महल, झांझिरी महल, रानी महल, इत्रदान महल, वारादरी, धोबी महल, कचहरी, चमार महल, बाला किला तथा मदागन तालाब आदि का अवलोकन किया। किले के भ्रमण के दौरान दल के सदस्य यहां सदियों पुराने वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम को देखकर अचंभित रह गए। जल संरक्षण के लिए किले में पानी जमा करने के लिए नालियां बनाई गई हैं। बारिश के दिनों में पानी ऐसी ही नालियों के माध्यम से होता हुआ तालाब, टांको और भूमिगत टैंकों में पहुंचता था, जिससे वर्ष भर किले पर जल आपूर्ति होती थी। सदियों पुराने इस वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम से तत्कालीन शासकों की दूर दृष्टि एवं ज्ञान का अंदाजा लगाया जा सकता है। भ्रमण के दौरान इत्रदान महल के ईको साउंड सिस्टम को देखकर भी आश्चर्य चकित रह गए। दल के सदस्यों ने रायसेन संग्राहलय का भी भ्रमण किया।
    असम प्रदेश के इस 15 सदस्यीय दल में असम के सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग के वरिष्ठ सूचना अधिकारी श्री जाहिद ए. तापदार, द टेलीग्राफ आजतक के श्री प्रनव कुमार दास, डीडी न्यूज तथा एआईआर के श्री तपस समद्दर, असमिया प्रतिदिन के ध्रुवज्योति नाथ, दैनिक असम के श्री मनस प्रतीम गोगोई तथा श्री पंकज, अमर असोम के श्री रतन हजारिका, श्री जिवान कोनवर तथा श्री अब्दुल खलीक सहित अन्य पत्रकार शामिल थे।  
 
(13 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
नवम्बरदिसम्बर 2017जनवरी
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
27282930123
45678910
11121314151617
18192021222324
25262728293031
1234567

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer