समाचार
|| राज्य खाद्य आयोग के अध्यक्ष श्री स्वाई आज करेंगे योजनाओं एवं कार्यक्रमों की संभाग स्तरीय समीक्षा || कलेक्टर ने ली अधिकारियों एवं महाविद्यालयों के प्राचार्यों की बैठक "छात्रसंघ चुनाव" || देवांश पाण्डे की मृत्यु की दण्डाधिकारी जांच के तहत साक्ष्य आमंत्रित || केन्द्रीय मंत्री सुश्री उमा भारती का आगमन आज || देश की टेक्सटाइल इंडस्ट्री का हब बना मध्यप्रदेश || जैतहरी में संचालित शिशु स्कूल में मुख्यमंत्री को पा कर हर्षित हुए नवनिहाल || मुख्यमंत्री श्री चौहान का हेलीपैड में किया गया स्वागत || मुख्यमंत्री ने किया कन्या पूजन || अन्त्योदय मेले में दी गई हितग्राहीमूलक योजनाओं की जानकारी || जैतहरी में आयोजित विकास यात्रा कार्यक्रम के दौरान 35 सौ हितग्राहियों को 15 करोड़ के मिले हितलाभ
अन्य ख़बरें
भावांतर भुगतान योजना से मंडियों में आवक बढ़ी, किसानों को मिल रहे अच्छे दाम
जनजातीय समुदाय के लोग अपनी जमीन के मालिक थे और हमेशा रहेंगे, भावांतर योजना किसानों को ऐतिहासिक न्याय दिलायेगी - मुख्यमंत्री श्री चौहान, पंजीयन नहीं करा पाये किसान 15 से 22 नवम्बर तक करा सकेंगे पंजीयन
ग्वालियर | 13-नवम्बर-2017
 
 
   मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने आज भोपाल स्थित मंत्रालय से वीडियों कांफ्रेंसिंग के जरिये भावांतर भुगतान योजना के क्रियान्वयन के संबंध में संभागायुक्तों और कलेक्टरों से मैदानी स्तर की जानकारी ली। कलेक्टरों ने बताया कि भावांतर भुगतान योजना के प्रारंभ में जो भ्रम बने हुए थे, अब दूर हो गये हैं। परिणामस्वरूप मंडियों में आवक बढ़ रही है। फसलों का अच्छा दाम मिलने पर किसान संतुष्ट हैं। जनजातीय जिलों के दूरस्थ क्षेत्रों में 20 साप्ताहिक हाट बाजारों में भी फसल की आवक हो रही है। बढती आवक को देखते हुए इन हाट बाजारों को भी शामिल किया गया है। इसके अलावा 51 उप मंडियों को भी क्रियाशील कर दिया गया है जहाँ किसान अच्छी मात्रा में अनाज लेकर आ रहे हैं। अब तक 171 लाख मीट्रिक टन अनाज की आवक मंडियों में हो चुकी है। मात्र एक महीने में मंडियों को पिछले साल के मुकाबले 28 करोड़ रूपये की आय हुई है।
   मुख्यमंत्री ने सभी कलेक्टरों की किसानों के हित में आगे बढ़कर काम करके योजना को सफल बनाने की सराहना की। उन्होंने कहा कि यह समय किसानों का साथ देने का समय है, वे संकट में हैं। भावांतर भुगतान योजना किसानों की सेवा करने का माध्यम है। इससे किसानों को ऐतिहासिक न्याय दिलाने में सफलता मिलेगी। उन्होंने किसानों को उनकी फसल का पूरा दाम दिलवाने के लिये निगरानी दलों को और ज्यादा सक्रिय और सचेत बनाने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि योजना को बदनाम करने वालों को मौका न दें।    
   श्री चौहान ने कहा कि जिन किसानों ने 16 से 31 अक्टूबर तक अपनी फसल बेच दी थी, उनको भी अंतर की राशि का भुगतान देना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि भुगतान की प्रक्रियाओं में पूरी तरह पारदर्शिता बरतें। किसानों को सहारा देकर उनकी सेवा करें और किसान विरोधी लोगों को किसान हितैषी इस योजना को बदनाम करने का कोई मौका नहीं दें।
   मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कलेक्टरों से कहा कि वे 16 से 31 अक्टूबर की अवधि में मंडियों में फसल बेचने वाले एक लाख 55 हजार पंजीकृत किसानों को एसएमएस के माध्यम से योजना में कितना भुगतान किया जा रहा है, इसकी सूचना 20 नवंबर तक आवश्यक रूप से दें। मुख्यमंत्री ने जिला और संभाग स्तरीय निगरानी दलों को मंडियों का दौरा करने के निर्देश दिये।
   श्री चौहान ने सभी किसानों के बैंक खातों का सत्यापन सुनिश्चित करवाने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि बैंक खातों के अलावा बोनी का रकबा, उत्पादन आदि का सत्यापन भी सावधानी से करें। सभी पंजीकृत किसानों का बैंक खातों का ब्यौरा मंडियों को उपलब्‍ध कराने और वहां से किसानों के खातों में डालने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि किसानों को किसी भी प्रकार की शिकायत होने पर अपनी बात कहने का भी मौका मिलेगा।
   मुख्यमंत्री ने कहा कि 20 नवम्बर को उज्जैन में आयोजित होने वाले किसान सम्मेलन में 15 दिनों की भावांतर की राशि किसानों के खातों में डाल दी जायेगी। उन्होंने कहा कि किसानों का विश्वास भावांतर भुगतान योजना में बढ़ रहा है। सभी भ्रम दूर हो गये हैं। उन्होंने कहा कि कुछ तथाकथित किसान विरोधी लोगों ने योजना के बारे में भ्रम फैलाने की कोशिश की थी, वे कामयाब नहीं हुए।
   श्री चौहान ने कहा कि किसानों को मालूम होना चाहिये कि उन्हें कितना दाम मिला है। प्रत्येक किसान को इस योजना का फायदा मिलना चाहिये। यदि वास्तविक किसान किसी कारण अपना पंजीयन करवाने से चूक गये हैं या किसी कारण नहीं करवा पाये हैं तो उनका पूरा ब्यौरा लेकर उसे सत्यापित कर पंजीयन करवायें। ऐसे किसानों के लिये पोर्टल पर पंजीयन की सुविधा 15 से 22 नवम्बर तक रहेगी। उन्होंने कपास उत्पादक जिलों के कलेक्टरों को निर्देश दिये कि कपास की खरीदी के लिये विशेष इंतजाम करें और इस पर निगरानी रखें। इस अवसर पर बताया गया कि प्रदेश के 8 केन्द्रों पर न्यूनतम समर्थन मूल्य पर 15 हजार 500 क्विंटल कपास की खरीदी हुई है।
   मुख्यमंत्री ने कलेक्टरों से कहा कि वे किसानों को भण्डारण अनुदान योजना का लाभ लेने के लिये भी प्रेरित करें। गोडाउन अनुदान योजना में अनुदान राशि सात रूपये से बढ़ाकर 9 रूपये 90 पैसे प्रति क्विंटल प्रति माह किया गया है। उन्होंने कहा कि पंजीकरण के लिये आफलाइन आवेदनों को जल्दी ही आनलाइन दर्ज करायें।
कलेक्टरों की सराहना
   मुख्यमंत्री ने आदिवासी किसानों की उपज को मंडियों में लाने के लिये लिये शहडोल, झाबुआ और अलीराजपुर जिलों के कलेक्टरों के प्रयासों की सराहना की। इन जिलों में आदिवासी किसानों की उपज संग्रह करने के लिये विशेष वाहनों की व्यवस्थाएँ की गई हैं। शहडोल में इस प्रकार 2000 क्विंटल अनाज मंडी में आ पाया। यहाँ प्रत्येक गाँव में एक नोडल अधिकारी को नियुक्त किया गया है ताकि प्रत्येक किसान को भावांतर योजना का लाभ दिला सके।
   मुख्यमंत्री ने कहा कि भावांतर भुगतान योजना के क्रियान्वयन को मिशन मोड में लिया गया है। उन्होंने किसानों के साथ ऐतिहासिक निर्णय करने के लिये इसी गति से भविष्य में भी प्रयास जारी रखने के निर्देश दिये।
आदिवासियों की जमीन के संबंध में भ्रम फैलाने वालों पर कार्रवाई करें
   मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने संभागायुक्तों और कलेक्टरों से अन्य विषयों पर चर्चा करते हुए अवगत कराया कि कुछ समाज विरोधी व्यक्ति और समूह आदिवासी समुदायों में भ्रम फैला रहे हैं कि सरकार उनकी जमीन गैर आदिवासी लोगों को बेचने का कानूनी प्रावधान कर रही है।
   श्री चौहान ने संभागायुक्तों और कलेक्टरों से कहा कि ऐसे लोगों पर नजर रखें और भ्रम फैलाने पर उनके विरूद्ध कड़ी कार्रवाई करें। मुख्यमंत्री ने स्पष्ट किया कि सरकार ऐसा कोई कानूनी प्रावधान नहीं कर रही है और न ही ऐसा करने की कोई मंशा है। उन्होंने कहा कि आदिवासी समुदाय के लोग अपनी जमीन के मालिक थे और हमेशा रहेंगे। उन्होंने कहा कि असामाजिक और समाज विरोधी तत्व आदिवासी बहुल जिलों में भ्रामक सूचनाएँ फैला रहे हैं, उन पर ध्यान नहीं दें। उन्होंने कलेक्टरों से कहा कि वे आदिवासी समुदाय के लोगों को सचेत करें और उन्हें ऐसे लोगों के बहकावे में नहीं आने के लिये लगातार सावधान करें। वीडियो कांफ्रेंसिंग में मुख्य सचिव श्री बी.पी.सिंह एवं अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।
ग्वालियर में इनकी रही मौजूदगी
   यहाँ ग्वालियर स्थित एनआईसी के वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कक्ष में प्रभारी संभाग आयुक्त एवं आयुक्त भू-अभिलेख श्री एम के अग्रवाल, कलेक्टर श्री राहुल जैन व संयुक्त संचालक मंडी सहित भावान्तर भुगतान योजना से जुड़े विभागों के अधिकारी मौजूद थे।
(11 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अक्तूबरनवम्बर 2017दिसम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
303112345
6789101112
13141516171819
20212223242526
27282930123
45678910

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer