समाचार
|| एकात्म यात्रा सामाजिक सरोकारों से जुड़ा सांस्कृतिक अभियान : मुख्यमंत्री श्री चौहान || एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला आज || एकात्म यात्रा के संबंध में बैठक 16 दिसम्बर को || पिंक ड्राइविंग लाइसेंस शिविर आज परिवहन कार्यालय में || जनपद स्तर पर कृत्रिम अंग उपकरण वितरण शिविर जारी || एकात्म यात्रा के दौरान प्रतियोगिताए आयोजित होगी || स्वच्छता मैराथन दौड़ आज || वरिष्ठ सहकारिता निरीक्षक निलंबित || एकात्म यात्रा अभियान सांस्कृतिक एवं समरसता की यात्रा है - मुख्यमंत्री || हिन्दी ओलम्पियाड परीक्षा 31 दिसम्बर को
अन्य ख़बरें
लाड़ली शिक्षा पर्व का आयोजन नगरपालिका सभागृह में सम्पन्न
लाडली अब बोझ नही लक्ष्मी हैं
मन्दसौर | 12-अक्तूबर-2017
 
 
   माननीय मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा संचार माध्यम से लाडली शिक्षा पर्व पर सभी प्रदेश की बेटियों को सम्मानित किया गया। महिला बाल विकास एवं महिला सशक्तिकरण विभाग द्वारा नगर पालिका सभाग्रह में लाडली शिक्षा पर्व के कार्यक्रम को आयोजित किया गया। बेटियों के प्रति समाज में पाई जाने वाली नकारात्मक सोच लड़को के मुकाबले कम होती लड़कियों की संख्यो बालिका शिक्षा की कमजोर स्थिति बेटियों को कम उम्र मे बोझ समझ कर विवाह कर देना यह ऐसी सामाजिक बुराईयां थी जिन्होनें बेटी बचाओं जैसे अभियान चलाने के लिये विवस किया था। आजादी के सात दशक बीत जाने के बाद भी बेटियों को आजादी नही मिली। बेटी को बोझ समझने की इस सोच को बदलने के लिये मुख्यमंत्री ने 30 जुलाई 2006 को महिला पंचायत बुलाई उस महिला पंचायत में तय हुआ कि बोझ समझी जाने वाली प्रदेश की प्रत्येक बेटी अब लक्ष्मी के रूप में पैदा होनी चाहिये। उसके जन्म के बाद उसे बोझ समझने वाले परिजन उसे लेकर चिंतित न रहे। इसी मंशा से 01 अप्रैल 2007 से प्रदेश में लाडलियों को लखपति बनाने वाली लाडली लक्ष्मी योजना प्रारंभ की गई। आज 11 वर्ष पूरे होने के पश्चात बेटियों को छात्रवृत्ति प्रदान करते हुये मुझे गर्व महसूस हो रहा हैं। यह बात नगरपालिका सभागृह में आयोजित लाडली शिक्षा पर्व के कार्यक्रम में विधायक यशपालसिंह सिसोदिया द्वारा कही गई। कार्यक्रम के दौरान स्वास्थ्य एवं आयुष विभाग के द्वारा हिमोग्लोबीन जॉच एवं एनीमिया निवारण हेतु स्टॉल लगाकर दवाए वितरित की गई। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री का प्रदेश की  बेटीयो के नाम संदेश का सीधा प्रसारण भी दिखाया गया।
   कार्यक्रम की रूपरेखा प्रस्तुत करते हुए जिला महिला सशक्तिकरण अधिकारी रविन्द्र महाजन ने बताया कि योजना की रूपरेखा इस प्रकार बनाई गई हैं कि बेटियों की शिक्षा की पूर्ण व्यवस्था हो, सही उम्र में विवाह हो, प्रशासन बेटियों की प्रगति की निरंतर निगरानी करेगा कि वह कब वह 6 टी में प्रवेश ले रही हैं, 12 वी तक उसकी पढ़ाई की निरंतर निगरानी होगी। कार्यक्रम में जिला कार्यक्रम अधिकारी प्रफुल्ल खत्री मुख्य नगर पालिका अधिकारी सविता प्रधान, महिला मोर्चा जिलाध्यक्ष निर्मला गुप्ता तथा महिला आयोग की आयोग मित्र सुनीता देशमुख के साथ ही बड़ी तादात में अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित थे।  
   विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार योजना प्रारंभ से अब तक जिले में 48212 बालिकाओं को योजना से जोड़ा गया हैं। जिनमें से प्रत्येक बालिका को 1 लाख 18 हजार रूपये का ई-लाडली प्रमाण पत्र दिया गया हैं। गतवर्ष 492 बालिकाओं को 2000-2000 हजार प्रति बालिका के मान से छात्रवृत्ति दी गई। इस वर्ष 6 टी कक्षा में  1336 बालिकाओं ने प्रवेश लिया हैं। जिनमें से 1076 बालिकाओं को छात्रवृत्ति भुगतान की गई। शेष 260 बालिकाओं को भुगतान की प्रक्रिया प्रचलन में हैं। योजना के प्रावधानों के अनुसार हितग्राही बालिका को 6 टी कक्षा में प्रवेश पर 2000 कक्षा 9 वी में प्रवेश पर 4000 एवं कक्षा 11वी एवं 12 वी प्रवेश पर 6000 -6000 रूपये की राशि प्रदान की जाती हैं।
(63 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
नवम्बरदिसम्बर 2017जनवरी
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
27282930123
45678910
11121314151617
18192021222324
25262728293031
1234567

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer