समाचार
|| कलेक्टर कार्यालय में पदस्थ अधिकारियों के बीच नए सिरे से कार्य विभाजन || केन में पेट्रोल/डीजल दिए जाने पर होगा प्रकरण दर्ज || बेरोजगारों को रोजगार दिलाने के हरसंभव प्रयास होगें - श्री देशमुख || अन्तर्राष्ट्रीय वृद्धजन दिवस पर कार्यक्रम हेतु गठित समिति की बैठक आज || माता, पिता और वरिष्ठ नागरिक भरण-पोषण के तहत समिति की बैठक आज || जगन्नाथपुरी यात्रा 2 अक्टूबर को (मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना) || स्व. वत्स जैसा बेबाक पत्रकार नहीं देखा – श्री बाबूलाल जैन || केन्द्रीय जेल में दिया जा रहा है बन्दियों को आईटीआई प्रशिक्षण || कलेक्टर सहित सभी अधिकारियों ने की अपने-अपने कार्यालयों की सफाई || सेवढा विधायक प्रदीप अग्रवाल ने ग्राम उचाड में किया सी सी रोड का लोकार्पण
अन्य ख़बरें
शिवना नदी वृहद सिंचाई परियोजना प्रस्ताव के बारे में 50 गांव डूब में आने संबंधी भ्रामक प्रचार पूर्णतः निराधार एवं असत्य है
-
मन्दसौर | 13-सितम्बर-2017
 
 
    मंदसौर जिले की शिवना नदी पर ग्राम चौंसला के पास इसी साल 17 जुलाई 2017 को अधीक्षक यंत्री जल संसाधन मंडल उज्जैन के साथ कार्यपालन यंत्री जल संसाधन संभाग मंदसौर, अनुविभागीय अधिकारी जल संसाधन उपसंभाग सुवासरा एवं संबंधित उपयंत्री के साथ तथा 24 जुलाई को मुख्य अभियंता नर्मदा ताप्ती कछार जल संसाधन विभाग इन्दौर द्वारा शिवना नदी वृहद सिंचाई परियोजना के निर्माण के संबंध में स्थल निरीक्षण (साईट विजिट) किया गया था। टोपोशीट के प्रथम दृष्ट्या अध्ययन के आधार पर इस योजना के लगभग 25 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई प्रस्तावित है। योजना के डूब में लगभग 4 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में जलभराव होगा, जिसमें राजस्थान राज्य का लगभग 2 हजार 500 हेक्टेयर रकबा एवं म.प्र. राज्य का 1 हजार 500 हेक्टेयर रकबा शामिल होगा। साथ ही राजस्थान के 5 गांव  भी डूब में आयेंगे, किन्तु म.प्र. राज्य का कोई भी गांव डूब में नहीं आयेगा।
    कार्यपालन यंत्री, जल संसाधन विभाग मंदसौर डिवीजन ने आज बताया कि शिवना नदी वृहद सिंचाई परियोजना के बारे में प्रभावित होने वाले क्षेत्र में कुछ असामाजिक तत्वों द्वारा यह भा्रमक अफवाहें फैलाई जा रही हैं कि इस परियोजना से क्षेत्र के लगभग 50 ग्राम डूब में आयेंगे। यह कोरी अफवाह है, जो पूर्णतः निराधार एवं असत्य हैं। उन्होने बताया कि इस योजना को अभी केवल प्रथम दृष्टया चिन्हाकित ही किया गया है। उन्होने यह भी साफ किया है कि परियोजना के डूब क्षेत्र में आने वाली भूमि एवं सम्पत्तियां अधिक प्रभावित होने की स्थिति में तथा यदि स्थानीय जनसमुदाय एवं जनप्रतिनिधियों द्वारा इस परियोजना के निर्माण का विरोध किया जाता है, तो ऐसी स्थिति में परियोजना का निर्माण प्रस्तावित नहीं किया जायेगा।
 
(12 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अगस्तसितम्बर 2017अक्तूबर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
28293031123
45678910
11121314151617
18192021222324
2526272829301
2345678

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer