समाचार
|| खाद्य सुरक्षा आयोग के अध्यक्ष और सदस्य आज करेंगे ग्रामीण क्षेत्रों का भ्रमण || खाद्य मंत्री श्री धुर्वे का आगमन आज || हर पात्र व्यक्ति तक पहुंचायें खाद्य सुरक्षा योजनाओं का लाभ – श्री स्वाई || दीनदयाल अंत्योदय रसोई घर-आश्रय स्थल का कलेक्टर डॉ. खाडे द्वारा निरीक्षण || माननीय श्री शिव चौबे जी अध्यक्ष कैबिनेट मंत्री दर्जा प्राप्त स्टेट माईनिंग कोर्पो. लि. भोपाल का सिंगरौली आगमन आज || जनप्रतिनिधियों से प्रस्तावो को गंभीरता पूर्वक लिया जाय : श्री अजय पाठक || प्रतिभा पर्व में कम ग्रेडिंग आने पर दर्जनों प्राचार्यो परः- कलेक्टर की कड़ी कार्यवाही || भावान्तर की 73 लाख रूपए की राशि किसानों के खातों में जमा की || योजना क्रियान्वयन के सम्बन्ध में जनप्रतिनिधियों का फीडबैक अहम् – श्री स्वाई || जिले मे अति कम वजन के बच्चों के वजन मे निरंतर सुधार
अन्य ख़बरें
शिवना नदी वृहद सिंचाई परियोजना प्रस्ताव के बारे में 50 गांव डूब में आने संबंधी भ्रामक प्रचार पूर्णतः निराधार एवं असत्य है
-
मन्दसौर | 13-सितम्बर-2017
 
 
    मंदसौर जिले की शिवना नदी पर ग्राम चौंसला के पास इसी साल 17 जुलाई 2017 को अधीक्षक यंत्री जल संसाधन मंडल उज्जैन के साथ कार्यपालन यंत्री जल संसाधन संभाग मंदसौर, अनुविभागीय अधिकारी जल संसाधन उपसंभाग सुवासरा एवं संबंधित उपयंत्री के साथ तथा 24 जुलाई को मुख्य अभियंता नर्मदा ताप्ती कछार जल संसाधन विभाग इन्दौर द्वारा शिवना नदी वृहद सिंचाई परियोजना के निर्माण के संबंध में स्थल निरीक्षण (साईट विजिट) किया गया था। टोपोशीट के प्रथम दृष्ट्या अध्ययन के आधार पर इस योजना के लगभग 25 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई प्रस्तावित है। योजना के डूब में लगभग 4 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में जलभराव होगा, जिसमें राजस्थान राज्य का लगभग 2 हजार 500 हेक्टेयर रकबा एवं म.प्र. राज्य का 1 हजार 500 हेक्टेयर रकबा शामिल होगा। साथ ही राजस्थान के 5 गांव  भी डूब में आयेंगे, किन्तु म.प्र. राज्य का कोई भी गांव डूब में नहीं आयेगा।
    कार्यपालन यंत्री, जल संसाधन विभाग मंदसौर डिवीजन ने आज बताया कि शिवना नदी वृहद सिंचाई परियोजना के बारे में प्रभावित होने वाले क्षेत्र में कुछ असामाजिक तत्वों द्वारा यह भा्रमक अफवाहें फैलाई जा रही हैं कि इस परियोजना से क्षेत्र के लगभग 50 ग्राम डूब में आयेंगे। यह कोरी अफवाह है, जो पूर्णतः निराधार एवं असत्य हैं। उन्होने बताया कि इस योजना को अभी केवल प्रथम दृष्टया चिन्हाकित ही किया गया है। उन्होने यह भी साफ किया है कि परियोजना के डूब क्षेत्र में आने वाली भूमि एवं सम्पत्तियां अधिक प्रभावित होने की स्थिति में तथा यदि स्थानीय जनसमुदाय एवं जनप्रतिनिधियों द्वारा इस परियोजना के निर्माण का विरोध किया जाता है, तो ऐसी स्थिति में परियोजना का निर्माण प्रस्तावित नहीं किया जायेगा।
 
(72 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अक्तूबरनवम्बर 2017दिसम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
303112345
6789101112
13141516171819
20212223242526
27282930123
45678910

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer