समाचार
|| कलेक्टर कार्यालय में पदस्थ अधिकारियों के बीच नए सिरे से कार्य विभाजन || केन में पेट्रोल/डीजल दिए जाने पर होगा प्रकरण दर्ज || बेरोजगारों को रोजगार दिलाने के हरसंभव प्रयास होगें - श्री देशमुख || अन्तर्राष्ट्रीय वृद्धजन दिवस पर कार्यक्रम हेतु गठित समिति की बैठक आज || माता, पिता और वरिष्ठ नागरिक भरण-पोषण के तहत समिति की बैठक आज || जगन्नाथपुरी यात्रा 2 अक्टूबर को (मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना) || स्व. वत्स जैसा बेबाक पत्रकार नहीं देखा – श्री बाबूलाल जैन || केन्द्रीय जेल में दिया जा रहा है बन्दियों को आईटीआई प्रशिक्षण || कलेक्टर सहित सभी अधिकारियों ने की अपने-अपने कार्यालयों की सफाई || सेवढा विधायक प्रदीप अग्रवाल ने ग्राम उचाड में किया सी सी रोड का लोकार्पण
अन्य ख़बरें
स्वाईन फ्लू से निपटने कारगर रणनीति अपनायें-कलेक्टर
स्वास्थ्य अधिकारियों और निजी नर्सिंग होम संचालकों की बैठक सम्पन्न
जबलपुर | 06-सितम्बर-2017
 
  
   कलेक्टर महेश चन्द्र चौधरी ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों तथा निजी नर्सिंग होम संचालकों की बैठक लेकर सभी अस्पतालों में स्वाईन फ्लू के रोगियों के समुचित उपचार की व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिये हैं।
   श्री चौधरी ने कलेक्टर कार्यालय के जनसुनवाई कक्ष में सम्पन्न हुई इस बैठक में स्वाईन फ्लू के बढते प्रकरणों पर चिंता जाहिर की और इसकी रोकथाम के लिए सभी जरूरी कदम उठाने की हिदायत स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को दी।  उन्होंने स्वाईन फ्लू के लक्षण, इससे बचने के उपाय तथा बरती जाने वाली सावधानियों के प्रति आम जनमानस में जागरूकता पैदा करने के लिए व्यापक प्रचार-प्रसार की जरूरत बताई। कलेक्टर ने स्वाईन फ्लू की रोकथाम के लिए स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों एवं निजी अस्पतालों के संचालकों को कारगर रणनीति अपनाने, आपस में तालमेल बनाये रखने तथा एक दूसरे के निरंतर संपर्क में बने रहने के निर्देश भी बैठक में दिये।
   श्री चौधरी ने स्वाईन फ्लू के पॉजिटिव प्रकरणों में रोगियों के उपचार के लिए अस्पतालों में आइसोलेशन वार्ड बनाने तथा सभी जरूरी उपकरण एवं दवाईयों की उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्देश भी दिये। उन्होंने कहा कि सतर्कता के बतौर अस्पतालों में सर्दी-खांसी के पीड़ित लोगों के उपचार की व्यवस्था भी पृथक से की जानी चाहिए।  
   कलेक्टर ने स्वाईन फ्लू की आशंका वाले रोगियों के उपचार के लिए निजी अस्पतालों में की गई व्यवस्थाओं की विस्तार से जानकारी भी बैठक में ली। उन्होंने कहा कि स्वाईन फ्लू के रोगियों के लिए निजी एवं शासकीय अस्पतालों में की गई व्यवस्थाओं का वे खुद भी आकस्मिक निरीक्षण कर जायजा लेंगे। इसके साथ ही अपर कलेक्टर एवं अनुविभागीय दण्डाधिकारियों के नेतृत्व में भी अस्पतालों के निरीक्षण के लिए दल गठित किये जायेंगे।  प्रत्येक दल में एक चिकित्सक को भी तैनात किया जायेगा।
   कलेक्टर ने बैठक के माध्यम से आम नागरिकों से सर्दी-जुकाम होते ही तुरंत चिकित्सक से परामर्श और उपचार लेने की अपील की है। उन्होंने कहा कि स्वाईन फ्लू से भयभीत होने की जरूरत नहीं है। सर्दी-खांसी के प्रारंभिक चरण में ही उपचार कराने से इस रोग के होने की आशंका को ही दूर किया जा सकता है।
   मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. मुरली अग्रवाल ने बैठक में बताया कि जिले में अभी तक स्वाईन फ्लू के 60 पॉजिटिव प्रकरण सामने आये हैं। इनमें से 37 प्रकरण जबलपुर जिले के एवं शेष अन्य जिलों से यहां आये रोगियों के हैं। मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने बताया कि जबलपुर के विभिन्न अस्पतालों से स्वाईन फ्लू से पीड़ित 12 रोगियों की मृत्यु की रिपोर्ट प्राप्त हुई है। इनमें से चार प्रकरण जबलपुर जिले के हैं जबकि कटनी, शहडोल एवं दमोह जिले के दो-दो तथा सतना एवं पन्ना जिले के एक-एक प्रकरण शामिल हैं।
   मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने बताया कि स्वाईन फ्लू के उपचार के लिए पर्याप्त मात्रा में दवाईयां उपलब्ध है। सभी अस्पतालों को टेमी फ्लू की गोलियां मुहैया करा दी गई हैं। उन्होंने बताया कि निजी अस्पतालों में स्वाईन फ्लू का उपचार करा रहे रोगियों को भी शासन की ओर से दवाईयां उपलब्ध कराई जायेंगी।
   बैठक में संयुक्त संचालक स्वास्थ्य डॉ. रंजना गुप्ता भी मौजूद थीं।
(19 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अगस्तसितम्बर 2017अक्तूबर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
28293031123
45678910
11121314151617
18192021222324
2526272829301
2345678

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer