समाचार
|| जनसुनवाई || लंबे समय से लंबित प्रकरणों की विभागवार समीक्षा || प्रीमैट्रिक स्कालरशिप एवं पोस्टमैट्रिक स्कालरशिप के आवेदन आनलाईन प्रेषित करने की तिथि में वृद्धि || बाकी क्षेत्रों में भी उतने ही कार्यरत फिर वसूली में अंतर क्यों ? || जन सुनवाई में कलेक्टर ने केतराम को एम्बुलेंस से भेजा जिला अस्पताल || स्वच्छता हर एक की पहली और प्राथमिक जिम्मेदारी होनी चाहिये डी.एफ.पी. || जिले में वर्षा की स्थिति || कलेक्टर श्री गुप्ता ने जनसुनवाई की || चिनगवाह की जानकी साकेत की रोगी वेतन वृद्धि || गांधी जयंती मद्य निषेध सप्ताह 2 से 8 अक्टूबर तक आयोजित किया जायेगा
अन्य ख़बरें
होम वर्क करके मिटिंग में आये - कलेक्टर
क्रेशर संचालकों के विरूद्ध कार्यवाही के निर्देश, अनुपस्थित और देरी से आने वालों को जारी होंगे शोकाज़
रतलाम | 04-सितम्बर-2017
 
     कलेक्टर श्रीमती तन्वी सुन्द्रियाल ने समयसीमा की बैठक में जिला स्तरीय विभागीय अधिकारियों के द्वारा संतोषजनक उत्तर नहीं देने पर उन्हें होम वर्क करके मिटिंग में आने की हिदायत दी। उन्होने कहा कि जिला स्तरीय अधिकारी होने के बाद भी आखिर कैसे वे बगैर तैयारी के मिटिंग में आते है। सभी अधिकारियों को किन-किन बिन्दुओं पर समयसीमा की बैठक में समीक्षा की जानी है का भलीभांति पता होने के बावजूद इस प्रकार बगैर तैयारी के आना निराशाजनक है। बैठक में कलेक्टर ने देरी से आने वाले और बैठक में अनुपस्थित रहने वाले जिला अधिकारियों को कारण बताओ सूचना पत्र जारी करने के निर्देश कार्यालय अधीक्षक को दिये है। समयसीमा की बैठक में आज कलेक्टर ने लीज समाप्ति के उपरांत भी क्रेशर का संचालन करने वाले संचालकों के विरूद्ध एक सप्ताह में कार्यवाही करने के निर्देश खनिज अधिकारी को दिये।
    बैठक में रतलाम विकास प्राधिकरण अंतर्गत संचालित किये जा रहे आवास निर्माण संबंधी परियोजनाओं की जानकारी संतोषजनक तरीके से नहीं देने पर कलेक्टर ने उपस्थित प्रभारी गुजंन गर्ग के साथ ही सभी जिला अधिकारियों को सख्त हिदायत दी कि वे मिटिंग में आने के पूर्व सम्पूर्ण होम वर्क करके आये। कलेक्टर ने श्री गर्ग को सभी प्रोजेक्ट की टाईम लाईन और डीपीआर चैक करने को कहा है। उन्होंने प्रोजेक्ट की सम्पूर्ण प्लानिंग से अवगत कराने के भी निर्देश दिये। कलेक्टर ने सभी अधिकारियों को निर्देशित किया हैं कि बैठक में समीक्षा के दौरान प्रोजेक्ट के स्वीकृत होने के समय, स्वीकृति राशि, वर्तमान समय तक हुए कार्य की जानकारी, राशि के व्यय होने संबंधी जानकारी के साथ ही क्या परियोजना के कार्य निर्धारित लक्ष्य व समयानुसार चल रहे हैं अथवा इत्यादि समस्त जानकारी होनी आवश्यक है। यदि परियोजनाओं के संचालन में कोई परेशानी आ रही हो तो उनके निराकरण के लिये क्या-क्या कदम उठाये गये है अथवा प्रशासनीक तौर पर और क्या निर्णय लिये जाने है इत्यादि सम्पूर्ण होम वर्क करके आना आवश्यक है। यदि इस प्रकार की जानकारियों का अभाव होता हैं तो माना जावेगा कि अधिकारीगण बैठक की ठीक से तैयारी करके नहीं आये है।
दस अधिकारियों को कारण बताओं सूचना पत्र
    कलेक्टर श्रीमती सुन्द्रियाल ने आज बैठक में जिला पंजीयक अधिकारी के अवकाश में रहने पर मौजूदा प्रभारी अधिकारी के बैठक में अनुपस्थित रहने पर कारण बताओं सूचना पत्र जारी करने के निर्देश दिये। उन्होने बैठक में देर से आने पर खजिन अधिकारी, आपूर्ति अधिकारी, हाउसिंग बोर्ड के अधिकारी, प्रबंधक प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना, आबकारी अधिकारी, नागरिक आपूर्ति निगम, नापतोल विभाग, होमगार्ड विभाग और आरटीओ को भी कारण बताओं सूचना पत्र जारी करने के निर्देश दिये।
कितने प्रकरण बनाये, अवैध उत्खनन के कितने वाहन पकड़े
    कलेक्टर श्रीमती सुन्द्रियाल ने खनिज अधिकारी के समयसीमा के प्रकरणों का समाधान कारक उत्तर नहीं देने पर नाराजगी प्रकट कर कहा कि चाहे सेवानिवृत्ति का समय कम बचा हो फिर भी हम वेतन तो ले रहे हैं और जो वेतन ले रहे हैं तो काम भी करना चाहिए। उन्होने खनिज अधिकारी से जानना चाहा कि रतलाम में ज्वाईन करने के पश्चात अवैध उत्खनन संबंधी अब तक कितने प्रकरण बनाये और अवैध तरीके से खनिज पदार्थो का परिवहन करते हुए कितने वाहनों के विरूद्ध कार्यवाही की गई या उन्हें पकड़ा गया। कलेक्टर ने खनिज अधिकारी को अगली समीक्षा बैठक के पूर्व बिबड़ौद की खदानों के चिन्हाकंन के निर्देश दिये है। उन्होंने गत वर्ष सितम्बर 2016 में लीज निरस्ती के बाद भी क्रेशर मशीनों के संचालकों के विरूद्ध एक सप्ताह में कार्यवाही करने के निर्देश दिये है। कलेक्टर ने दूरभाष पर रतलाम शहर एसडीएम श्रीमती नेहा भारतीय को भी खजिन अधिकारी के साथ कार्यवाही करने को कहा है।
धोलावाड़ में टूरिज्म रिजार्ट बनेगा
    कलेक्टर श्रीमती सुन्द्रियाल ने शहरी विकास अभिकरण के परियोजना अधिकारी एस.कुमार और एसडीएम सैलाना अनिल कुमार भाना को धोलावाड़ क्षेत्र में तीन से पॉच एकड़ के लगभग शासकीय भूमि तलाशने के निर्देश दिये है। उन्होने कहा हैं कि पर्यटन की सम्भावनाओं के मद्देनजर और अधिक से अधिक सैलानियों को धोलावाड़ टूरिज्म पार्क तक लाने के लिये ऐसे स्थान को तलाशा जाये जहां से जलाशय के विहंगम दृश्य और सुरम्य हरियाली पहाड़ियों का आनंद लिया जा सके। कलेक्टर ने बताया कि उपयुक्त भूमि का चिन्हांकन हो जाने पर एम.पी.टूरिज्म भोपाल को रिजार्ट बनाये जाने हेतु प्रस्ताव भेजा जायेगा।
‘‘मैं गरीब हूँ’’ लिखा हुआ नहीं मिटेगा दिवारों से
    बैठक में नगरीय निकाय की समीक्षा के दौरान परियोजना अधिकारी शहरी विकास अभिकरण ने बताया कि जावरा नगर पालिका परिषद द्वारा प्रस्ताव पास कर मांग की गई हैं कि बीपीएल परिवारों के घरों की दिवारों पर ‘‘मैं गरीब हूँ’’ लिखा हुआ मिटाया जाये। उल्लेखनीय हैं कि मध्यप्रदेश विधानसभा की लोक लेखा समिति के गत समय रतलाम भ्रमण के दौरान 16 जनवरी 2017 को जावरा में आयोजित बैठक में समिति ने आदेशित किया था कि बीपीएल परिवारों के घरों पर दिवारों पर ‘‘मैं गरीब हूँ’’ अंकित किया जाये। समिति के आदेशानुसार ही पालन कराया गया हैं और समिति के आदेश से ही दिवारों से ‘‘मैं गरीब हूँ’’ मिटाया जा सकता है। कलेक्टर ने उक्त आशय का पत्र लिखकर जावरा नगर पालिका परिषद को अवगत कराने के निर्देश परियोजना अधिकारी शहरी विकास अभिकरण को दिये है।
एक चक्कर में 11 की मुआवजा राशि उलझी, खोजबीन जारी
    दौलतपुरा के जीवन और रामसिंह ने उनके परिवार की जमीन और मकान सासर तालाब निर्माण से प्रभावित होने पर मुआवजा राशि अब तक नहीं मिलने की शिकायत की समीक्षा करते हुए कलेक्टर श्रीमती सुन्द्रियाल ने पुछा कि संबंधितों को राशि स्वीकृत होने के बावजुद क्यों नहीं मुआवजा दिया जा रहा है। जल संसाधन के कार्यपालन यंत्री एच.के.मालवीय ने बैठक में अवगत कराया कि सासर तालाब से प्रभावित होने पर जीवन और रामसिंह के परिवार को पॉच लाख 83 हजार रूपये मकान के और एक लाख 25 हजार रूपये जमीन का मुआवजा स्वीकृत हुआ है। राशि भी उपलब्ध हैं किन्तु जब तक उनके द्वारा जमीन और मकान की रजिस्ट्री नहीं की जाती हैं तब तक राशि प्रदाय नहीं की जा सकेगी। परिजनों से सम्पर्क किया गया हैं परिवार के 12 सदस्यों में से एक सदस्य भूरीबाई की अनुपस्थिति के कारण रजिस्ट्री नहीं हो पा रही हैं और इसी कारण मुआवजा राशि प्रदाय किया जाना सम्भव नहीं हो पा रहा हैं। परिजन भूरीबाई को खोज रहे हैं। जैसे ही सभी सदस्य उपस्थित होकर रजिस्ट्री करा देगें राशि उनके खाते में अंतरित कर दी जायेगी। कलेक्टर ने भूरी बाई को खोजने के लिये एसडीएम एवं एसडीओपी सैलाना की मदद लेने के निर्देश दिये है।
फोरलेन पर गढडे हैं, लिखकर दूं क्या?
    महू-नीमच फोरलेन रोड़ के ठीक प्रकार से रखरखाव नहीं होने संबंधी शिकायत की समीक्षा के दौरान एम.पी.आर.डी.सी. के सहायक प्रबंधक रतलाम राकेश सोलिया ने कहा कि मुझे इस संबंध में स्पष्ट शिकायत और जानकारी प्राप्त नहीं है। तब कलेक्टर ने नाराजगी व्यक्त करते हुए पुछा कि फोरलेन पर इतने बड़े-बड़े गढ्डे हैं आपको दिखाई नहीं दे रहे हैं, लिखकर दू क्या? कलेक्टर ने रतलाम जिले की सीमाओं में एम.पी.आर.डी.सी. की सड़कों से संबंधित सहायक प्रबंधक इंदौर, मंदसौर और आगर-मालवा को भी प्रत्येक माह के पहले सोमवार को आयोजित होने वाली बैठक में बुलाने के निर्देश दिये है। कलेक्टर ने राकेश सोलिया को निर्देशित किया कि फोरलेन के गढडो की शीघ्रता से मरम्मत कराया जाना सुनिश्चित करें।
सड़क के साथ नाली हैं तो बनानी पड़ेगी
    कलेक्टर श्रीमती सुन्द्रियाल ने लोक निर्माण विभाग के कार्यपालन यंत्री जावेद शकील को निर्देशित किया हैं कि स्कोप ऑफ वर्क में यदि नाली का उल्लेख हैं तो आपको नाली बनाना पड़ेगी। आपको इस बात की चिंता करने की जरूरत नहीं हैं कि नाली की सफाई कौन और कैसे करेगा। यदि कार्य में नाली का उल्लेख हैं तो बनाना आपका कार्य हैं। आप इससे इंकार नहीं कर सकते हैं और ना ही आपको चिंता करने की जरूरत है। कलेक्टर ने पी.डब्ल्यु.डी. द्वारा निर्मित रतलाम शहर की सड़कों को दस दिन में नगर पालिक निगम को सुपुर्द करने के निर्देश देकर प्रतिवेदन प्रस्तुत करने को कहा है।
 
(22 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अगस्तसितम्बर 2017अक्तूबर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
28293031123
45678910
11121314151617
18192021222324
2526272829301
2345678

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer