समाचार
|| कलेक्टर कार्यालय में पदस्थ अधिकारियों के बीच नए सिरे से कार्य विभाजन || केन में पेट्रोल/डीजल दिए जाने पर होगा प्रकरण दर्ज || बेरोजगारों को रोजगार दिलाने के हरसंभव प्रयास होगें - श्री देशमुख || अन्तर्राष्ट्रीय वृद्धजन दिवस पर कार्यक्रम हेतु गठित समिति की बैठक आज || माता, पिता और वरिष्ठ नागरिक भरण-पोषण के तहत समिति की बैठक आज || जगन्नाथपुरी यात्रा 2 अक्टूबर को (मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना) || स्व. वत्स जैसा बेबाक पत्रकार नहीं देखा – श्री बाबूलाल जैन || केन्द्रीय जेल में दिया जा रहा है बन्दियों को आईटीआई प्रशिक्षण || कलेक्टर सहित सभी अधिकारियों ने की अपने-अपने कार्यालयों की सफाई || सेवढा विधायक प्रदीप अग्रवाल ने ग्राम उचाड में किया सी सी रोड का लोकार्पण
अन्य ख़बरें
जिले में कुपोषित बच्चों की संख्या में गिरावट
-
जबलपुर | 31-अगस्त-2017
 
   कुपोषण को कम करने के लिए निरंतर चलाये जा रहे पोषण अभियानों के परिणामस्वरूप पिछले सात-आठ महीनों के दौरान जिले में कुपोषित बच्चों की संख्या में गिरावट आई है।
   जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास मनीष शर्मा के मुताबिक जिले में जनवरी 2017 में अति कम वजन वाले बच्चों की संख्या जहां 1 हजार 946 दर्ज की गई थी जो अगस्त माह में कम होकर 1 हजार 689 हो गई है।  उन्होंने बताया कि बच्चों में कुपोषण 0.15 फीसदी की आई कमी को शासन द्वारा चलाई जा रही योजनाओं के प्रभावी क्रियान्वयन का नतीजा है।
   जिला कार्यक्रम अधिकारी के अनुसार जिले में 13 एकीकृत बाल विकास परियोजनाओं के माध्यम से 2 हजार 191 आंगनबाड़ी केन्द्र एवं 292 मिनी आंगनबाड़ी केन्द्र संचालित किये जा रहे हैं।  इन आंगनबाड़ी केन्द्रों में कुल 1 लाख 68 हजार 827 बच्चे दर्ज हैं। इनमें से 84.50 फीसदी अर्थात 1 लाख 42 हजार 554 बच्चे सामान्य वजन के हैं। जबकि 14.50 फीसदी अर्थात 24 हजार 584 बच्चे कम वजन के एवं एक फीसदी अर्थात 1 हजार 689 बच्चे अति कम वजन के हैं। उन्होंने बताया कि आंगनबाड़ी केन्द्रों में दर्ज बच्चों की कुल संख्या में अति कम वजन के बच्चों की यही संख्या जनवरी 2017 में 1 हजार 946 अर्थात 1.15 फीसदी थी।
   जिला कार्यक्रम अधिकारी ने बताया कि आंगनबाड़ी केन्द्रों में समस्त हितग्राहियों को ताजा पका पूरक पोषण आहार एवं टेक होम राशन एवं कुपोषित बच्चों को तीसरा आहार प्रदाय किया जाता है। उन्होंने बताया कि कुपोषण को कम करने के लिए चलाये जा रहे सुपोषण अभियान से रेड जोन में शामिल कम वजन के 479 बच्चों एवं अतिकम वजन के 487 बच्चों को लाभांवित किया गया है। जिला कार्यक्रम अधिकारी के अनुसार जिले में पोषण पुनर्वास केन्द्रों (एन.आर.सी.) के माध्यम से अभी तक 1239 बच्चों को लाभांवित किया गया है। अतिकम वजन के ऐसे 492 बच्चे जो एन.आर.सी. में भर्ती होने योग्य नहीं है, उन्हें स्थानीय स्तर पर जनप्रतिनिधियों, अधिकारियों को स्नेह सरोकार कार्यक्रम अंतर्गत गोद दिलाया गया है। स्नेह सरोकार योजना में बच्चों की देखभाल एवं पोषण सहयोग दिया जाता है, जिससे बच्चों के स्वास्थ्य में उत्तरोत्तर सुधार परिलक्षित हुआ है।  स्वास्थ्य शिविरों के माध्यम से बच्चों का लगातार स्वास्थ्य परीक्षण किया जाकर उनकी मॉनीटरिंग की जा रही है।
   जिला कार्यक्रम अधिकारी के अनुसार विभाग द्वारा महिला एवं बच्चों के स्वास्थ्य से संबंधित प्रचार-प्रसार एवं जागरूकता के संबंध में पंचवटी से पोषण, लालिमा अभियान, विशेष पोषण अभियान, विशेष वजन अभियान एवं पोषण परिपूर्ण ग्राम की योजनायें संचालित की जा रही हैं, जिससे समुदाय की सहभागिता एवं विभिन्न विभागों के समन्वय से महिलाओं एवं बच्चों को सुपोषित किया जा सके।
(25 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अगस्तसितम्बर 2017अक्तूबर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
28293031123
45678910
11121314151617
18192021222324
2526272829301
2345678

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer