समाचार
|| मध्यप्रदेश गौपालन एवं पशुधन संवर्धन बोर्ड के अध्यक्ष का दौरा कार्यक्रम || टास्क फोर्स समिति की बैठक सम्पन्न || प्रधानमंत्री जी के 15 सूत्रीय कार्यक्रम क्रियान्वयन समिति की बैठक सम्पन्न || सी.एम. हेल्पलाइन के प्रकरणों के निराकरण में उत्कृष्ट प्रगति पर सहायक यंत्री सम्मानित || समीक्षा बैठक का आयोजन आज || संभागीय जनसम्पर्क कार्यालय में श्री सिंह ने किया पदभार ग्रहण || उद्योग मंत्री श्री शुक्ल करेंगे गौवंश वन्यविहार का भूमिपूजन || विंध्य विकास प्राधिकरण की सामान्य सभा की बैठक 19 दिसम्बर को || टी.बी. के रोगियों का घर-घर सर्वे 14 से 28 दिसम्बर तक || आदि शंकराचार्य के स्त्रोतों का गायन 14 दिसम्बर को
अन्य ख़बरें
रेत के अवैध उत्खनन के विरूद्ध राजस्व, पुलिस और खनिज की संयुक्त कार्यवाही
-
जबलपुर | 16-जून-2017
 
   
   कलेक्टर महेशचन्द्र चौधरी के निर्देश पर आज खनिज, पुलिस और राजस्व विभाग के संयुक्त दल द्वारा ग्राम सिलुआ में आकस्मिक कार्यवाही कर अवैध रूप से भण्डारित चार डम्पर रेत नर्मदा नदी में बहा दी गई तथा अवैध उत्खनन पहुंच मार्ग को ट्रेंच खोदकर अवरूद्ध किया गया। संयुक्त दल द्वारा ग्राम चारघाट में भी अवैध उत्खननकर्ता ब्राजेश पटेल निवासी चारघाट एवं सालीवाड़ा ग्राम पंचायत सचिव मनोज अग्रवाल निवासी चारघाट के विरूद्ध पुलिस थाना गौर चौकी में प्राथमिकी दर्ज कराई गई है।
   सहायक खनिज अधिकारी ने उक्त जानकारी देते हुए बताया कि मध्यप्रदेश शासन द्वारा नर्मदा नदी से रेत का उत्खनन वर्तमान में प्रतिबंधित किया गया है। जबलपुर जिले में वर्तमान में हिरन नदी स्थित सिहोरा तहसील अन्तर्गत ग्राम देवरी कन्हाई, ग्राम खिरहनी कला, पाटन तहसील अन्तर्गत आमाखेड़ा, ग्राम थाना तथा पनागर तहसील अन्तर्गत ग्राम इमलिया स्थित रेत खदानें नियमानुसार स्वीकृत होकर संचालित हैं। इसके अतिरिक्त जिले में वैध रेत भण्डारण अनुज्ञप्ति तहसील पाटन अन्तर्गत ग्राम कटंगी, सकरा, मिडकी, कैमोरी, कुंवरपुर एवं शहपुरा तहसील अन्तर्गत इमलिया, मेरेगांव, रमखिरिया, पावला में नियमानुसार स्वीकृत होकर संचालित है।
   सहायक खनिज अधिकारी के मुताबिक वर्तमान में रेत का क्रय अथवा परिवहन उपरोक्त अनुज्ञापित क्षेत्रों से किया जा सकता है। अवैध रूप से रेत का परिवहन पाए जाने पर वाहनों को राजसात करने की कार्यवाही की जाएगी।
   सहायक खनिज अधिकारी के अनुसार जिले में निर्माण कार्यों पर विपरीत प्रभाव न पड़े इस हेतु जिले में खनिज की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए जिले में स्थित स्टोन क्रेशरों पर उपलब्ध पत्थर डस्ट के नमूने एकत्र किए जाकर तकनीकी जांच हेतु भेजे जा रहे हैं ताकि निर्माण कार्य हेतु उपयुक्त पाए जाने पर रेत के स्थान पर पत्थर डस्ट का उपयोग किया जा सके।    
(178 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
नवम्बरदिसम्बर 2017जनवरी
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
27282930123
45678910
11121314151617
18192021222324
25262728293031
1234567

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer