समाचार
|| अपर कलेक्टर की अध्यक्षता में स्वास्थ्य समिति की बैठक संपन्न || 730 किसानों को मिली 1 करोड़ 81 लाख से अधिक की भावांतर राशि || जनसंपर्क मंत्री ने थरेट पहुंचकर शोक संवेदना व्यक्त की || रतनगढ़ में गायत्री महायज्ञ में सम्मिलित हुए जनसंपर्क मंत्री || जनसंपर्क मंत्री ने मोहन ज्ञानानी के निधन पर शोक संवेदना व्यक्त की || सेवा कार्य सहमति से चलते हैं, दमोह को अवारा पशुओं से मुक्त करने सबको मिलकर सफल बनाना होगा- सांसद प्रहलाद पटैल || वीरांगना की मूर्ति बेटियों को आगे बढ़ने के लिये उत्साह उर्जा और प्रेरणा देती है-वित्तमंत्री श्री मलैया || रोजगार मेले में तीन सौ बारह प्रकरणों को स्वीकृत कर नौ करोड़ 76 लाख की राशि से हितग्राहीयों को किया गया लाभान्वित || निर्धारित अवधि तक बेची गई सोयाबीन, उड़द एवं मूंग फसलों के जिन्सों की भावान्तर भुगतान योजनान्तर्गत अन्तर की राशि नौ सौ तेरह किसानों के खाते में || अल्पसंख्यक छात्रवृत्ति 2017-18 एव नवीनी करण आवेदनों के लिए सूचना जारी
अन्य ख़बरें
जिले में मूंग और उड़द की खरीदी शुरू
-
जबलपुर | 10-जून-2017
 
   राज्य शासन के निर्देशानुसार किसानों से समर्थन मूल्य पर ग्रीष्मकालीन उड़द और मूंग का उपार्जन जिले में स्थापित किये गये तीनों खरीदी केन्द्र सिहोरा, पाटन और शहपुरा कृषि उपज मण्डी में आज दस जून से प्रारंभ कर दिया गया है।
   उड़द और मूंग की खरीदी के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त किये गये कुलदीप शुक्ला के मुताबिक आज पहले दिन शहपुरा खरीदी केन्द्र में करीब 900 क्विंटल मूंग और उड़द उपार्जन किया गया है। सिहोरा और पाटन खरीदी केन्द्रों में किसानों द्वारा जरूरी दस्तावेज न लाये जाने के कारण उड़द और मूंग की खरीदी नहीं की जा सकी।
   ज्ञात हो कि जिले में ग्रीष्मकालीन उड़द और मूंग की खरीदी 10 जून से 30 जून तक की जायेगी। कलेक्टर महेश चन्द्र चौधरी के निर्देशानुसार तीनों खरीदी केन्द्रों पर सभी जरूरी व्यवस्थायें उपार्जन प्रारंभ करने के पहले ही सुनिश्चित की जा चुकी है। किसानों से उड़द की खरीदी 5 हजार रूपये प्रति क्विंटल जबकि मूंग का उपार्जन 5 हजार 225 रूपये प्रति क्विंटल के समर्थन मूल्य पर किया जा रहा है।
   जिला प्रशासन ने किसानों से अपील की है कि वे खरीदी केन्द्रों पर अपनी उपज को विक्रय हेतु लाते समय जरूरी दस्तावेज भी साथ लेकर आयें ताकि उन्हें किसी भी तरह की कठिनाई न हो। किसानों से कहा गया है कि वे खरीदी केन्द्र पर स्वयं प्रमाणित पत्रक को साथ लेकर आयें और इस पत्रक में खसरा नंबर, गांव का नाम एवं कितने क्षेत्र में फसल बोई गई की जानकारी का उल्लेख अनिवार्यत: करें। प्रशासन ने किसानों से बैंक का नाम, खाता क्रमांक और बैंक का आईएफएससी कोड भी साथ लेकर आने का अनुरोध किया गया है, ताकि भुगतान में विलंब न हो।
(165 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अक्तूबरनवम्बर 2017दिसम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
303112345
6789101112
13141516171819
20212223242526
27282930123
45678910

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer