समाचार
|| पारसनाथ शिखर जी तीर्थ यात्रा हेतु कल तक आवेदन आमंत्रित || मस्कॉट प्रतियोगिता हेतु प्रविष्टियॉं 30 अप्रैल तक आमंत्रित || जैव विविधता पुरस्कार योजना के तहत आवेदन 30 अप्रैल तक आमंत्रित || नेशनल लोक अदालत में 3831 प्रकरण निराकृत || कामाख्या तीर्थ यात्रा के लिए आवेदन 26 तक आमंत्रित || बंदियों के लिए राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन || रोजगार की पढ़ाई - चलें आईटीआई अभियान 30 अप्रैल तक || नेशनल लोक अदालत में 427 प्रकरण निराकृत || पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री भार्गव का दौरा कार्यक्रम || नेशनल लोक अदालत में तीन करोड़ रूपए से अधिक के अवार्ड पारित
अन्य ख़बरें
अत्याचार के 47 प्रकरणों में 48 लाख से ज्यादा की मदद
जिला स्तरीय सतर्कता एवं मॉनीटरिंग कमेटी की बैठक सम्पन्न
ग्वालियर | 21-अप्रैल-2017
 
  
   अनुसूचित जाति, जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम के तहत 47 प्रकरणों में 48 लाख 77 हजार रूपए की राहत राशि स्वीकृत की गई है। यह राशि जिला स्तरीय सतर्कता एवं मॉनीटरिंग कमेटी की बैठक में स्वीकृत की गई। बैठक में विधायक डबरा श्रीमती इमरती देवी की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई।
   बैठक में समिति के सदस्य के रूप में अध्यक्ष अजाक्स चौधरी श्री मुकेश मौर्य सहित अन्य अशासकीय सदस्य, उप पुलिस अधीक्षक एजेके श्री यू एन एस परिहार, सहायक आयुक्त आदिवासी विकास श्री एच बी शर्मा सहित अन्य सदस्यगण उपस्थित थे।
   विधायक श्रीमती इमरती देवी ने कहा कि अत्याचार के प्रकरणों में राहत राशि के साथ-साथ पीड़ित पक्ष को रोजगारमूलक योजनाओं से जोड़ने का कार्य भी किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि सहरिया वर्ग के लोगों को शासन की अन्य योजनाओं के तहत राशि उपलब्ध कराने से पूर्व उनकी काउन्सलिंग की जाना चाहिए।
   सहायक आयुक्त श्री एच बी शर्मा ने बताया कि जिले में अनुसूचित जाति, जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम 1995 के अंतर्गत वर्ष 2016-17 में कुल 53 प्रकरण दर्ज किए गए। जिनमें अनुसूचित जाति के 47 प्रकरणों में 46 लाख 30 हजार रूपए की तथा जनजाति के 4 प्रकरणों में 2 लाख 47 हजार 500 रूपए की राहत राशि स्वीकृत की गई है। संकटापन्न राहत योजना के तहत 41 प्रकरणों में एक लाख 38 हजार रूपए की राशि का भुगतान किया जा चुका है। उन्होंने बताया कि एक्ट के प्रावधानों के तहत अनुसूचित जाति अत्याचार प्रकरणों में पीड़ित व्यक्ति को गवाही के लिये न्यायालय में आने पर उसे यात्रा भत्ता और भरण पोषण भत्ता और मजदूरी क्षतिपूर्ति की राशि प्रदान की जाती है। इसके साथ ही इस वर्ग के व्यक्तियों को नि:शुल्क विधिक सहायता भी उपलब्ध कराई जाती है। जिले में 401 प्रकरण अभियोजन के लिये न्यायालयों में विचाराधीन है।
एससी-एसटी वर्ग के बच्चे एक साथ हॉस्टल में रह सकेंगे
   बैठक में सहायक आयुक्त श्री शर्मा ने बताया कि शासकीय छात्रावास और आश्रमों का अधिकाधिक उपयोग सुनिश्चित करने के उद्देश्य से राज्य शासन द्वारा निर्णय लियाग या है कि स्थान रिक्त होने पर अनुसूचित जाति के छात्रावास में अनुसूचित जनजाति वर्ग के छात्रों को प्रवेश दिया जा सकता है। इसी प्रकार अनुसूचित जनजाति वर्ग के छात्रावास में अनुसूचित जाति के छात्र को प्रवेश दिए जाने की अनुमति प्रदान कर दी गई है। उन्होंने इसके संबंध में समिति के सदस्यों से इस वर्ग के लोगों को अवगत कराने का अनुरोध किया।
(366 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मार्चअप्रैल 2018मई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2627282930311
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
30123456

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer