समाचार
|| आर्थिक मदद जारी || हिट एण्ड रन के एक प्रकरण में आर्थिक मदद जारी || ऑन लाइन आवेदन भरने की प्रक्रिया से अवगत कराने हेतु प्रशिक्षण आयोजित || डाटाबेस में सही प्रविष्टियां के आश्य का प्रमाण पत्र जमा कराएं || पटवारी राजस्व विभाग की रीढ़ || कलेक्टर हुए रू-ब-रू || केन्द्रीय मंत्रियों और मुख्यमंत्री के मुरैना प्रस्तावित आयोजन की तैयारी को लेकर बैठक सम्पन्न || लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री रूस्तम सिंह मुरैना में || बोर्ड परीक्षा व्यवस्थाओं को लेकर शिक्षा मण्डल के अध्यक्ष श्री मोहन्ती आज समीक्षा करेंगें || जबलपुर में 24 फरवरी को असंगठित श्रमिकों का सम्मेलन
अन्य ख़बरें
पृथ्वी के नीचे उपलब्ध जल में से 0.25 प्रतिशत ही निकालकर ऊपर लाया जा सकता है
-
गुना | 21-अप्रैल-2017
 
   पृथ्वी की सतह का लगभग 70 प्रतिशत भाग जल से ढंका हुआ है और पृथ्वी पर उपलब्ध 97.2 प्रतिशत जल समुद्रों में है, जो पीने के योग्य नहीं है। यह कहना है कार्यपालन यंत्री जल संसाधन श्री राजेश चौरसिया का।
   कार्यपालन यंत्री श्री चौरसिया ने बताया कि जल को अन्न की अपेक्षा अधिक उत्कृष्ट माना गया है। जल तीन रूपों ठोस (बर्फ), द्रव्य (जल) एवं गैस (जलवाष्प) के रूप में पाया जाता है। उपलब्ध जल का केवल 2.8 प्रतिशत जल ही पीने योग्य है। इसमें से 2.2 प्रतिशत पृथ्वी की सतह पर है तथा शेष 0.6 प्रतिशत पृथ्वी के भीतर भू-जल के रूप में है। सतह पर उपलब्ध 2.2 प्रतिशत जल में से 2.15 प्रतिशत जल ग्लेशियरों एवं हिमनदों के रूप में है। मात्र 0.05 प्रतिशत जल झीलों तथा नदियों में है। पृथ्वी के नीचे जितना जल है, उसमें से मात्र 0.25 प्रतिशत ही निकालकर ऊपर लाया जा सकता है।
   जल स्त्रोतो में वर्षा, समुद्र, नदी, कुंआ, बावड़ी, झरना, झील, तालाब, ग्लेशियर एवं भू-गर्भीय जल सम्मिलित हैं। पृथ्वी पर कुल जल उपयोग का 69 प्रतिशत जल सिंचाई के लिए उपयोग होता है। पृथ्वी पर जल उपयोग का 15 प्रतिशत जल का उपयोग औद्योगिक है।
   कार्यपालन यंत्री श्री चौरसिया ने बताया कि जल का गहराता संकट निःसंदेह निर्बाध गति से बढ़ती जनसंख्या है। ग्रामीण आबादी का शहरों और महानगरों की ओर पलायन भी विकासशील देशों के शहरों में पानी की कमी को बढ़ा रहा है। व्यावसायिक गतिविधियों का विस्तार भी जलसंकट का एक कारण है। जलवायु परिवर्तन भी जल संसाधनों पर प्रभाव डालता है। भारत में 60 प्रतिशत सिंचाई हेतु जल और लगभग 85 प्रतिशत पेयजल का स्त्रोत भू-जल ही है, जिसके फलस्वरूप भू-जल की उपलब्धता में गिरावट आ रही है। भू-जल की उपलब्धता में आ रही कमी के फलस्वरूप भू-जल की गुणवत्ता प्रभावित हो रही है।
   जल संकट दूर करने के लिए जल संरक्षण एवं संचयन आज की ज्वलंत आवश्यकता है। जिसके लिए तत्काल प्रभावी कदम उठाने की जरूरत है। इसके लिए सामुदायिक एवं व्यक्तिगत स्तर पर निष्ठा के साथ कार्य करना होगा। गुना जिले में वर्ष 2016-017 में जल संसाधन विभाग के स्त्रोतो से 38787 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा उपलब्ध कराई गई। जिस प्रकार धन बचाना धन अर्जन के समान है, उसी प्रकार जल बचाना भी जल संग्रहण की भांति है। जो जल संग्रहण एवं संरक्षण में भागीदारी नहीं कर सकते, वो हितग्राही के रूप में जल का मितव्ययतापूर्वक उपयोग कर इस कार्य में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं।
 
(308 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जनवरीफरवरी 2018मार्च
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2930311234
567891011
12131415161718
19202122232425
2627281234
567891011

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer