समाचार
|| जिले में अक्टूबर में नसबंदी शिविरों का आयोजन || रामेश्वरम् की तीर्थ यात्रा के लिए आवेदन 29 नवम्बर तक आमंत्रित ‘मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना’ || नहर में डूबने से मृत्यु पर 4 लाख रूपये की आर्थिक सहायता || आयुर्वेद चिकित्सा शिविर का 481 रोगियों ने उठाया लाभ || राशन दुकानों में कम से कम 20 कैशलेस ट्रांजेक्शन भीम एप से करने के निर्देश || तुकईथड़ उप मण्डी में भी किसानों की उपज की नीलामी प्रारंभ || राजस्व अधिकारी मण्डियों का प्रति सप्ताह निरीक्षण करें-कलेक्टर श्री सिंह || निःशुल्क स्वास्थ्य शिविर सम्पन्न || नगरपालिका पीथमपुर के वार्डो के आरक्षण की कार्यवाही 23 अक्टूबर को || प्रदेश सरकार ने शुरू किया mp.mygov.in पोर्टल, ताकि लोग कह सकें अपनी बात
अन्य ख़बरें
सिविल सर्विस डे पर कार्यशाला सम्पन्न
-
आगर-मालवा | 20-अप्रैल-2017
 
     शासन की योजनाओं का जमीनी स्तर पर प्रभावी क्रियान्वयन में सिविल सेवक महत्वपूर्ण कड़ी है, शासकीय कार्यालयों एवं भवनों में जल संरक्षण हेतु वॉटर हार्वेस्टिंग की व्यवस्था होना चाहिए, इसके लिए प्रस्ताव तैयार करें,बाबा बैजनाथ के पास पहाड़ी पर वृक्षारोपण के लिए अधिकारी-कर्मचारी श्रमदान करेंगे, शासकीय योजनाओं के प्रभावी क्रियान्वयन हेतु सकारात्मक सुझाव दें, जो आमजन की अपेक्षाओं पर खरे उतरे यह बात कलेक्टर श्री डी.व्ही.सिंह ने आज कलेक्ट्रेट सभा कक्ष में सिविल सर्विस डे के अवसर पर आयोजित कार्यशाला में कही। यह कार्यशाला विभिन्न विषयों पर केन्द्रित थी।
जनता के कार्य पारदर्शिता एवं संवेदनशीलता के साथ करें
    कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि बदलते परिवेश में यह सोचना होगा कि जनोन्मुखी कार्यों को निष्पादित करते हुए हम कैसे बेहतर परिणाम दें। वर्तमान समय में प्रशासन जनोन्मुखी, संवेदनशील एवं पारदर्शी हो गया है। लिहाजा हमें उसी के अनुरूप जनता के कार्य पारदर्शिता एवं संवेदनशीलता के साथ करना होगा।
शासकीय कार्यालयों एवं भवनों में वॉटर हार्वेस्टिंग की व्यवस्था हो
    कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि शासन की नीतियों एवं रीतियों का लाभ अधिक-से-अधिक लोगों तक पंहुचाना सुनिश्चित करें। जिले में लगातार कम होते जलस्तर पर चिन्ता व्यक्त करते हुए कहा हमें जल संरक्षण एवं संवर्धन के गंभीरता से कारगर उपाय करना होंगे। इसके लिये प्रत्येक ग्राम में एक-एक तालाब का निर्माण एवं मरम्मत का कार्य किया जाएगा। उन्होंने कहा कि जल संरक्षण हेतु शासकीय कार्यालयों एवं भवनों में वॉटर हार्वेस्टिंग की व्यवस्था होना चाहिए। इसके लिए उन्होंने ग्रामीण यांत्रिकी सेवा, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग, पीडब्ल्यूडी एवं डीपीसी के अधिकारी को आपसी समन्वय स्थापित कर प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि जल संरक्षण एवं पर्यावरण संरक्षण हेतु जिले के नदी-नालों एवं तालाबों के किनारे वृक्षारोपण का कार्य स्व-सहायता समूह के माध्यम से किया जाएगा। नीम, करंज आदि छायादार वृक्ष लगाएं जाएंगे।
    कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि जिले में स्व-रोजगार योजनान्तर्गत प्रशिक्षित हितग्राहियों एवं स्व-रोजगार में लगे हितग्राहियों की जिला स्तरीय टेलिफोन डायरेक्ट्री तैयार की जाएगी। उन्होंने कहा कि जिले के आवश्यकतानुसार कृषि आधारित उद्योग स्थापित करने के लिये सकारात्मक सोच की आवश्यकता है। उन्होंने कार्यशाला में ग्रामोदय अभियान एवं नगरोदय अभियान सहित अन्य विषयों पर चर्चा करते हुए कहा कि ग्रामोदय अभियान अन्तर्गत प्राप्त आवेदनों का पंजीयन कर संबंधित विभाग को तत्काल प्रेशित किये जाए तथा आगामी जून माह तक शासन की स्व-रोजगार योजनाओं में 125 प्रतिशत से अधिक प्रकरण स्वीकृत कर संबंधित बैंक में प्रेशित करें।
कार्य में लापरवाही बरती गई तो दण्डात्मक कार्यवाही होगी
    कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि सीएम हेल्पलाईन अन्तर्गत प्राप्त शिकायतों के निराकरण करने में संवेदनशीलता बरती जाए एवं आवेदक को वास्तविक स्थिति से अवगत कराया जाए। उन्होंने स्वच्छ भारत अभियान अन्तर्गत निर्मित शौचालयों का शत्प्रतिशत भौतिक सत्यापन करने के निर्देश सब इंजीनियर्स को दिए तथा कहा कि कार्य में लापरवाही बरती गई तो दण्डात्मक कार्यवाही की जाएगी। उन्होने कहा कि 5 हजार 190 शौचालयों की सूची महिला बाल विकास विभाग के परियोजना अधिकारी को सौंपे, ताकि शौचालयों का भौतिक सत्यापन आंगनवाड़ी कार्यकर्ता एवं सहायिका के माध्यम से करवाया जा सकें।
मार्निंग फॉलोअप नहीं जाएंगे तो वेतन कटेगा
    कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि जिले को खुले में शौच से मुक्त करने के लिये हल्ला बोल कार्यक्रम में तैनात अधिकारियों द्वारा पर्याप्त रूचि नहीं ली जा रही है। उन्होंने निर्देश दिए कि मार्निंग फॉलोअप में सभी तैनात अधिकारी नियमित रूप से जाए अन्यथा वेतन काटा जाएगा। उन्होंने कहा कि ग्रामोदय से भारत उदय अभियान का दस्तावेजीकरण किया जाए एवं नियमित रूप से पोर्टल पर इन्ट्री भी की जाए। तीसरे चरण की तैयारी व्यवस्थित ढंग से होना चाहिए। कार्य गुणवत्तापूर्ण एवं परिणामोन्मुखी होना चाहिए।
   सीईओ जिला पंचायत श्री शुक्ल ने कहा कि ग्राम संसदों में अधिक से अधिक लोंगों की सहभागिता सुनिश्चित की जाए तथा ग्राम संसदों में प्रस्तावित कार्यो को 21 मई से शुरू किया जाए।कार्यशाला में एडिशनल एसपी श्री प्रदीप पटेल, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री राजेश शुक्ल,एसडीएम श्री मिलिन्द ढोके,संयुक्त कलेक्टर श्रीमती वर्षा भूरिया सहित विभिन्न विभागों के अधिकारियों ने भाग लिया।
 
(181 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
सितम्बरअक्तूबर 2017नवम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2526272829301
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
303112345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer