समाचार
|| डेयरी संचालकों की बैठक में कलेक्टर ने कहा, नियमों का पालन नहीं कर सकते तो दूसरा व्यवसाय शुरू करने की सोंचे डेयरी संचालक || अवैध उत्खनन रोकने अब संयुक्त कार्यवाही होगी || किसानों से नवीन तकनीकी अपनाने का आव्हान || नेताजी सुभाषचन्द्र बोस की जयंती के उपलक्ष्य में तीन दिवसीय कार्यक्रम का शुभारंभ || उच्च शिक्षा मंत्री श्री पवैया ने शोक संवेदना व्यक्त की || स्वास्थ्य शिविर में 2000 से अधिक व्यक्तियों का परीक्षण || खेतों में फसल हानि करने वाले रोजडो (नील गाय) को पकड़ने के लिये बनाये जायेंगे दल - वन मंत्री डॉ.गौरीशंकर शैजवार || नगर उदय अभियान के तीसरे चरण का प्रभावी क्रियान्वयन करें- कलेक्टर || गरीबों के इलाज के लिए सरकार अतिसंवेदनशील- सांसद || मतदाता जागरूकता के लिए निकली सायकल रैली
अन्य ख़बरें
वायरस को रोकने के लिये पोलियो अभियान की निरंतरता आवश्यक
राष्ट्रीय पल्स पोलियो अभियान पर जिला स्तरीय कार्यशाला सम्पन्न
ग्वालियर | 11-जनवरी-2017
 
       विश्व स्वास्थ्य संगठन के विशेषज्ञों ने बतलाया कि देश में पोलियो का वायरस समाप्त हो गया है। लेकिन इसको पुन: प्रवेश से रोकने के लिये एहतियाती कदम उठाए जाना आवश्यक है। इसी कड़ी में 29 जनवरी को शून्य से 6 वर्ष तक के बच्चों को पोलियो की दवा पूर्ववत पिलाई जाए। इसके लिये स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी और मैदानी अमला अपनी पूरी क्षमता के साथ अभियान का क्रियान्वयन करें।
    यह बात राष्ट्रीय पल्स पोलियो अभियान के तहत आयोजित जिला स्तरीय कार्यशाला में डब्ल्यूएचओ से आए डॉ. अभिषेक जैन और डॉ. श्याम सिंघल ने कही। एनएसव्ही रिसोर्स सेंटर में आयोजित इस कार्यशाला में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एस एस जादौन, सिविल सर्जन डॉ. डी डी शर्मा, जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. आर के गुप्ता सहित विभाग के मैदानी कर्मी उपस्थित थे।
    डॉ. अभिषेक जैन ने कहा कि पल्स पोलियो अभियान को बेहतर ढंग से अंजाम देने के लिये नियमित पोलियो बूथ के साथ-साथ बस स्टेण्ड, रेलवे स्टेशन व ग्वालियर मेले में भी विशेष पोलियो बूथ स्थापित करें। साथ ही ऐसे स्थानों को विशेष तौर पर चिन्हित करें, जहाँ अस्थायी डेरा बनाकर श्रमिक निवास करते हैं। ईंट भट्टा, निर्माणाधीन इमारतों और सड़कों के किनारे रहने वाले परिवारों का भी एक भी बच्चा पोलियोरोधी खुराक पीने से वंचित न रहने पाए। उन्होंने पोलियो टीकाकरण में सामाजिक एवं स्वयंसेवी संगठनों को प्रमुखता से जोड़ेंने की आवश्यकता बतलाई।
    वैक्सीन को सुरक्षित रखने के लिये सभी चिकित्सक कोल्ड चैन को व्यक्तिगत रूप से देखें। साथ ही इसके लिये निर्धारित प्रोटोकॉल का पालन करें। स्कूल शिक्षा व महिला एवं बाल विकास के अधिकारियों को भी पल्स पोलियो अभियान में पूर्ण सहयोग लिया जायेगा।
    डॉ. अभिषेक जैन ने बताया कि वर्ष 2011 से भारत में पोलियो वायरस का कोई भी केस नहीं मिला है। मगर पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान व अफगानिस्तान तथा नाईजीरिया में पोलियो के केस लगातार मिले हैं। इन राष्ट्रों से भारत में भी आवागमन बना रहता है। इसलिये पल्स पोलियो कार्यक्रम को विशेष गंभीरता के साथ लेने की जरूरत है। राष्ट्रीय पल्स पोलियो अभियान के तहत 29 जनवरी को पोलियो बूथ पर पोलियोरोधी खुराक पिलाई जायेगी। इसके अगले दिन छूटे हुए बच्चों को घर-घर जाकर पोलियो टीकाकरण किया जायेगा। विशेष राष्ट्रीय पल्स पोलियो अभियान का द्वितीय चरण आगामी 2 अप्रैल को आयोजित होगा।
(11 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
दिसम्बरजनवरी 2017फरवरी
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2627282930311
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
303112345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer