समाचार
|| मुख्यमंत्री का डुमना आगमन आज || आदि शंकराचार्य ने मध्यप्रदेश की भूमि से दिया सांस्कृतिक एकता का संदेश - शिवराज सिंह चौहान "ब्लॉग " || ग्रीष्मकालीन खेल प्रशिक्षण शिविर आज से || आदि गुरू शंकराचार्य जी की प्राकट्य पंचमी पर दौड़ आज प्रातः 6 बजे || आदि शंकराचार्य ने मध्यप्रदेश की भूमि से दिया सांस्कृतिक एकता का संदेश - शिवराज सिंह चौहान "ब्लॉग" || जननी सेवा के लिए 16 एम्बुलेंस को कलेक्टर ने दिखाई हरी झंडी || मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान 1 मई को शाहपुर आयेंगे || माँ नर्मदा की कृपा से लगातार मिल रहा है कृषि कर्मण अवार्ड - मुख्यमंत्री श्री शिवराज चौहान || आदि शंकराचार्य प्राकट्योत्सव पर आज गरिमामय आयोजन || आदि गुरू शंकराचार्य की प्राकट्य पंचमी पर आयोजित दौड़ और संगोष्ठी में शामिल होने कलेक्टर ने नागरिकों से की अपील
अन्य ख़बरें
ग्वालियर मेला को और आधुनिक व आकर्षक बनाया जायेगा – श्री तोमर
केन्द्रीय मंत्री के मुख्य आतिथ्य में श्रीमंत माधवराव सिंधिया ग्वालियर व्यापार मेले का शुभारंभ
ग्वालियर | 05-जनवरी-2017
 
 
      बदलती हुई परिस्थितियों और सभी की रूचि को ध्यान में रखकर ग्वालियर मेला के स्वरूप को और आकर्षक व आधुनिक बनाया जायेगा। इस दिशा में विचार मंथन कर प्रभावी कार्ययोजना बनाई जायेगी। यह बात केन्द्रीय पंचायतीराज, ग्रामीण विकास, पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने श्रीमंत माधवराव सिंधिया ग्वालियर व्यापार मेला के शुभारंभ समारोह को संबोधित करते हुए कही। समारोह की अध्यक्षता प्रदेश की नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंह ने की।
    मेला के शुभारंभ समारोह में महापौर श्री विवेक नारायण शेजवलकर, विधायक श्री भारत सिंह कुशवाह, सामान्य निर्धन वर्ग कल्याण आयोग के अध्यक्ष श्री बालेन्दु शुक्ल, जीडीए अध्यक्ष श्री अभय चौधरी, साडा अध्यक्ष श्री राकेश जादौन, नगर निगम सभापति श्री राकेश माहौर तथा श्री देवेश शर्मा व श्री वीरेन्द्र जैन बतौर अतिथि मंचासीन थे। साथ ही मंच पर संभाग आयुक्त एवं मेला प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री एस एन रूपला, कलेक्टर डॉ. संजय गोयल, पुलिस अधीक्षक डॉ. आशीष व नगर निगम आयुक्त श्री अनय द्विवेदी भी मंच पर मौजूद थे।
    केन्द्रीय मंत्री श्री तोमर ने कहा कि ग्वालियर मेला को ऊँचाईयाँ देने के लिये इस साल के मेले के समापन के बाद मेले की दीर्घकालिक कार्ययोजना तैयार करने के लिये एक बैठक रखी जायेगी। उन्होंने कहा मेले की कार्ययोजना में देश के अन्य बड़े-बड़े मेलों की खूबियाँ शामिल की जायेंगी। साथ ही ग्वालियर अंचल के लोगों की क्रय शक्ति व युवाओं सहित सभी आयु वर्ग के लोगों की रूचि का ध्यान रखा जायेगा। मेला ज्ञानवर्धन में सहायक हो और वर्तमान युग के साथ तालमेल बिठा सके, उन सभी बातों का समावेश भी मेले की कार्ययोजना में होगा। श्री तोमर ने कहा कि ग्वालियर मेला केवल एक व्यापारिक आयोजन नहीं है, यह हमारी ऐतिहासिक सांस्कृतिक और सामाजिक परंपराओं का समागम भी है। इसके वैभव को और ऊँचाईयाँ प्रदान करने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी जायेगी। श्री तोमर ने मेला प्रबंधन से कहा कि मेले के कार्यक्रमो के संबंध में शहर के अधिकाधिक लोगों तक निमंत्रण पत्र भेजे जाएँ।
    ग्वालियर शहर को ओडीएफ (खुले में शौच मुक्ति) का प्रमाण-पत्र मिलने पर श्री तोमर ने खुशी जाहिर की। साथ ही महापौर सहित सभी जनप्रतिनिधियों, जिला प्रशासन, नगर निगम व शहरवासियों को बधाई दी। उन्होंने आहवान किया कि स्वच्छता को अपने व्यवहार में लायें। साथ ही साझा प्रयासों से ग्वालियर को साफ-सुथरा रखकर देश में मिशाल कायम करें। श्री तोमर ने कहा स्वामी विवेकानंद ने तत्समय कहा था कि 21वीं सदी भारत की सदी होगी। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारत इसी दिशा में तेजी के साथ आगे बढ़ रहा है। सारे विश्व में भारत की स्वीकार्यता बढी है। उन्होंने आहवान किया कि ग्वालियरवासी भी कैशलेस व्यवस्था लागू करने में सहयोग कर देश को भ्रष्टाचार व कालाधन मुक्त राष्ट्र बनाने में सहभागी बनें।
    नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंह ने कहा कि ग्वालियर मेले का गौरवशाली इतिहास है। पूरे देश में इस अनूठे मेले से भी ग्वालियर की पहचान है। उन्होंने कहा कि यह आपसी मेलजोल बढ़ाने में भी महती भूमिका निभाता है। श्रीमती माया सिंह ने कहा कि देशभर की संस्कृति के दर्शन इस मेले में होते हैं। उन्होंने भरोसा दिलाया कि ग्वालियर मेले को ऊँचाईयाँ प्रदान करने के लिये शासन स्तर पर पूरी शिद्दत के साथ पहल की जायेगी।
    महापौर श्री विवेक नारायण शेजवलकर ने कहा कि समय के साथ-साथ मेले में बदलाव व आकर्षण बढ़ाने की जरूरत है। मेले का स्वरूप निखारने के लिये साझा प्रयास जरूरी हैं। उन्होंने कहा नगर निगम से इस दिशा में हर संभव सहयोग मिलेगा।
    संभाग आयुक्त एवं मेला प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री एस एन रूपला ने मेले की रूपरेखा पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि मेला प्राधिकरण द्वारा मेले के ऐतिहासिक और सांस्कृतिक वैभव को बनाए रखने के लिये महती प्रयास किए हैं। मेले में सभी आयु वर्ग के सैलानियों की रूचि का ध्यान रखा गया है। मेले में बाल महोत्सव और बच्चों के लिये शिक्षाप्रद फिल्में दिखाने का इंतजाम भी इस साल किया गया है। सुरक्षा को ध्यान में रखकर 100 सीसीटीव्ही कैमरे लगाए गए हैं। साथ ही स्वच्छता परिसर और शौचालयों का पर्याप्त इंतजाम मेला परिसर में किया गया है।
    मेला दुकानदार संघ की ओर से श्री महेश मुदगल ने विचार रखे। कार्यक्रम के अंत में मेला सचिव श्री शैलेन्द्र मिश्रा ने सभी के प्रति आभार व्यक्त किया। कार्यक्रम का संचालन श्री एस बी ओझा द्वारा किया गया।
    आरंभ में अतिथियों ने दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। स्कूली बच्चों ने स्वागत गीत और मध्यप्रदेश गान की प्रस्तुति दी।
सांस्कृतिक कैलेण्डर व मेला एप का किया विमोचन
    ग्वालियर व्यापार मेला के सांस्‍कृतिक कैलेण्डर का विमोचन भी अतिथियों ने किया। मेले के सांस्कृतिक गुलदस्ते में इस बार एक से एक बढ़कर रंग शामिल किए गए हैं। अखिल भारतीय कवि सम्मेलन व मुशायरा, सिने नाईट, नाटक, रासलीला, कब्बाली, शास्त्रीय संगीत, लोकगीत व लोकनृत्य सहित बाल महोत्सव शामिल किया गया है। साथ ही मेले की इकजाई जानकारी के लिये तैयार किए गए मोबाइल एप का विमोचन भी अतिथियों द्वारा किया गया।
महापौर ने केन्द्रीय मंत्री को सौंपा ओडीएफ प्रमाण-पत्र
   क्यूसीआई द्वारा ग्वालियर शहर को प्रदत्त ओडीएफ प्रमाण-पत्र इस मौके पर महापौर श्री विवेक नारायण शेजवलकर द्वारा केन्द्रीय मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर को सौंपा गया।
(115 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मार्चअप्रैल 2017मई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
272829303112
3456789
10111213141516
17181920212223
24252627282930
1234567

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer