समाचार
|| डेयरी संचालकों की बैठक में कलेक्टर ने कहा, नियमों का पालन नहीं कर सकते तो दूसरा व्यवसाय शुरू करने की सोंचे डेयरी संचालक || अवैध उत्खनन रोकने अब संयुक्त कार्यवाही होगी || किसानों से नवीन तकनीकी अपनाने का आव्हान || नेताजी सुभाषचन्द्र बोस की जयंती के उपलक्ष्य में तीन दिवसीय कार्यक्रम का शुभारंभ || उच्च शिक्षा मंत्री श्री पवैया ने शोक संवेदना व्यक्त की || स्वास्थ्य शिविर में 2000 से अधिक व्यक्तियों का परीक्षण || खेतों में फसल हानि करने वाले रोजडो (नील गाय) को पकड़ने के लिये बनाये जायेंगे दल - वन मंत्री डॉ.गौरीशंकर शैजवार || नगर उदय अभियान के तीसरे चरण का प्रभावी क्रियान्वयन करें- कलेक्टर || गरीबों के इलाज के लिए सरकार अतिसंवेदनशील- सांसद || मतदाता जागरूकता के लिए निकली सायकल रैली
अन्य ख़बरें
ग्वालियर सहित प्रदेश के पाँच छावनी क्षेत्रों को नगरीय निकाय का दर्जा प्राप्त
अब छावनी क्षेत्रों में भी होंगे करोड़ों रूपए के विकास कार्य, केन्द्रीय मंत्री श्री तोमर द्वारा एक करोड़ रूपए की सीवर लाईन भूमिपूजन
ग्वालियर | 05-जनवरी-2017
 
 
     
    केन्द्रीय पंचायतीराज, ग्रामीण विकास, पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा है कि ग्वालियर सहित प्रदेश के पाँच छावनी क्षेत्रों में अब होगा विकास ही विकास। मध्यप्रदेश सरकार ने प्रदेश के पाँच छावनी क्षेत्रों (कंटोनमेंट क्षेत्र) को नगरीय निकाय का दर्जा दे दिया है। इन क्षेत्रों के विकास के लिये करोड़ों रूपए की धनराशि का भी प्रावधान कर दिया है। इन क्षेत्रों के विकास के लिये आगामी बजट में धनराशि उपलब्ध होने लगेगी। केन्द्रीय मंत्री श्री तोमर ने यह बात आज ग्वालियर के कंटोनमेंट क्षेत्र में एक करोड़ रूपए की लागत से डाली जाने वाली सीवर लाईन के भूमि पूजन समारोह में मुख्य अतिथि के रूप मे कही। कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रदेश की नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंह ने की। विशेष अतिथि के रूप में महापौर श्री विवेक नारायण शेजवलकर, क्षेत्रीय विधायक श्री भारत सिंह कुशवाह सहित जनप्रतिनिधि और बड़ी संख्या में क्षेत्र के निवासी उपस्थित थे।
    केन्द्रीय मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा कि ग्वालियर छावनी क्षेत्र में विकास के लिये प्रदेश सरकार ने 9 करोड़ रूपए का वार्षिक बजट निर्धारित किया है। इसके साथ ही प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा 2 करोड़ रूपए की धनराशि क्षेत्र की सीवर समस्या के निदान हेतु प्रदान की है। उन्होंने कहा कि कंटोनमेंट क्षेत्र को नगरीय निकाय का दर्जा प्राप्त होने से इस क्षेत्र का तेजी से विकास हो सकेगा। ग्वालियर सहित प्रदेश के पाँच छावनी क्षेत्रों को नगरीय निकाय का दर्जा देने से सभी स्थानों पर विकास के कार्य तेजी से होंगे।
    केन्द्रीय मंत्री श्री तोमर ने कहा कि ग्वालियर में नगरीय प्रशासन मंत्री एवं महापौर द्वारा अमृत परियोजना में भी छावनी क्षेत्र को शामिल करने की स्वीकृति से यहाँ पर पेयजल, सीवर और हरियाली के क्षेत्र में भी व्यापक स्तर पर काम होंगे, जिसका लाभ छावनी क्षेत्र के लोगों को मिलेगा। उन्होंने इस अवसर पर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के प्रति भी आभार प्रदर्शित किया। जिन्होंने छावनी क्षेत्र को नगरीय निकाय का दर्जा देने की स्वीकृति प्रदान की।
    कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए श्रीमती माया सिंह ने कहा कि ग्वालियर के छावनी क्षेत्र में विकास हेतु नगरीय निकाय से 9 करोड़ रूपए की राशि का प्रावधान प्रति वर्ष के लिये किया गया है। यह राशि यहाँ के विकास कार्यों पर व्यय की जायेगी। उन्होंने कहा कि नगरीय प्रशासन के माध्यम से अमृत परियोजना में भी छावनी क्षेत्र को शामिल कर यहाँ की सीवर और पेयजल समस्या का पुख्ता निराकरण हो सकेगा। उन्होंने इस मोके पर आग्रह किया कि शासन द्वारा प्राप्‍त होने वाली राशि का योजनाबद्ध तरीके से व्यय किया जाए ताकि लोगों को मूलभूत सुविधायें उपलब्ध हो सकें।
    नगरीय विकास मंत्री श्रीमती माया सिंह ने कहा कि ग्वालियर प्रदेश का पहला स्वच्छ (खुले में शौच मुक्त) शहर भी केन्द्रीय दल द्वारा घोषित किया गया है। इसके लिये भी यहाँ के निवासियों, जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों को बधाई दी। उन्होंने कहा कि ग्वालियर में स्वच्छता के लिये व्यापक कार्य किए जा रहे हैं। स्वच्छता का कार्य में समाज के सभी वर्गों की सक्रिय भागीदारी आवश्यक है।
    कार्यक्रम में विशेष अतिथि के रूप में महापौर श्री विवेक नारायण शेजवलकर ने कहा कि छावनी क्षेत्र में नगर निगम द्वारा पहले भी कार्य कराए गए हैं। छावनी क्षेत्र को अब नगरीय निकाय का दर्जा प्राप्त होने के साथ ही पर्याप्त धनराशि भी प्राप्त होने लगेगी। उक्त राशि से यहाँ का विकास किया जायेगा। श्री शेजवलकर ने कहा कि हम सब मिलकर विकास के कार्य में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। उन्होंने कहा कि ग्वालियर शहर स्मार्ट सिटी में भी शामिल हो गया है। स्मार्ट सिटी के माध्यम से भी ग्वालियर विकास के कई कार्य आगामी एक दो वर्षों में दिखने लगेंगे। अमृत परियोजना के तहत भी पूरे ग्वालियर क्षेत्र में सीवर और पेयजल की लाईनें डालने का कार्य किया जायेगा।
    कार्यक्रम के प्रारंभ में क्षेत्रीय विधायक श्री भारत सिंह कुशवाह ने कहा कि केन्द्रीय मंत्री श्री तोमर एवं नगरीय विकास मंत्री श्रीमती माया सिंह के विशेष सहयोग से ग्वालियर छावनी क्षेत्र को नगरीय निकाय का दर्जा प्राप्त होने के साथ ही 9 करोड़ रूपए की राशि सालाना प्राप्त होगी। इसके लिये छावनी क्षेत्र की जनता की ओर से मैं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ। उन्होंने कहा कि छावनी क्षेत्र में विकास के कार्यों हेतु धन की कमी अब आड़े नहीं आयेगी और लोगों को मूलभूत सुविधाओं के निराकरण हेतु परेशान नहीं होना पड़ेगा। इसके साथ ही नगर निगम क्षेत्र में मिलने वाली विभिन्न योजनाओं का लाभ भी क्षेत्रवासियों को प्राप्त होगा।
    कार्यक्रम के शुरू में अतिथियों द्वारा एक करोड़ रूपए की लागत से डाली जाने वाली सीवर लाईन का भूमि पूजन किया गया। प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा सीवर लाईनों के लिये 2 करोड़ रूपए की धनराशि देने की घोषणा की गई थी। पूर्व में एक करोड़ रूपए की राशि का कार्य पूर्ण कर लिया गया है। शेष एक करोड़ रूपए के कार्य का पूजन कर कार्य प्रारंभ किया जा रहा है।
(16 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
दिसम्बरजनवरी 2017फरवरी
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2627282930311
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
303112345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer