समाचार
|| नमामि देवी नर्मदे सेवा यात्रा || नर्मदा सेवा यात्रा से एक नए मध्यप्रदेश  को गढ़ने का काम करेंगे-मुख्यमंत्री श्री  चौहान || कोटेश्वर में मुख्यमंत्री ने की माँ नर्मदा की आरती || नर्मदा सेवा यात्रा से एक नए मध्यप्रदेश को गढ़ने का काम करेंगे - मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान || कलेक्टर ने विभिन्न स्वरोजगार योजनाओं में लंबित प्रकरणों की समीक्षा की || गेहूं उपार्जन के लिये जिले में 56 केन्द्र निर्धारित - नोडल अधिकारी नियुक्त || कटनी पर्यावरण विकास समिति की बैठक 9 मार्च को || अटल बाल पालक अभियान का जिला स्तरीय सम्मेलन सम्पन्न || दो प्रकरणों में 40 हजार रुपये की आर्थिक सहायता राशि जारी || उद्योग मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल आज रीवा में
अन्य ख़बरें
जय किसान जय विज्ञान किसान सम्मेलन आयोजित
-
खण्डवा | 30-दिसम्बर-2016
 
  
      कृषि विज्ञान केन्द्र एवं कृषि महाविद्यालय, खण्डवा द्वारा जय किसान जय विज्ञान सप्ताह (23-29 दिसम्बर, 2016) अंतर्गत किसान सम्मेलन का आयोजन सांसद आदर्श ग्राम आरूद विकास खण्ड पंधाना में किया गया। इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि पंधाना विधायक श्रीमती योगिता बोरकर के मुख्य आथित्य में सम्पन्न किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता कृषि महाविद्यालय के अधिष्ठाता डॉ.पी. पी. शास्त्री ने की। इस कार्यक्रम में विशेष अतिथि आरूद सरपंच श्री पन्नालाल, उप सरपंच श्री मंगलेश, उप संचालक कृषि श्री ओ.पी.चौरे एवं उप संचालक उद्यानिकी श्री एस.एम.पटेल थे। इस अवसर पर बोलते हुए श्रीमती बोरकर ने कहा कि खेती को उन्नत बनाना है और किसान की जय बुलवाना है तो खेती को विज्ञान के साथ जोड़ कर एवं वैज्ञानिक तरीकों को अपनाकर किसानी करनी होगी। श्रीमती बोरकर ने बताया कि पंधाना अनुभाग कृषि पर आधारित है एवं सिंचाई का और विस्तार कर इसे उन्नत बनाया जाएगा।
    कार्यक्रम के अध्यक्ष डॉ. पी. पी. षास्त्री ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और चौधरी चरण सिंह के देश की कृषि में योगदान को याद किया व इन महापुरूषों को याद करते हुए विज्ञान के साथ जुड़कर कृषि से आय को बढाना है। इसके लिए बाजार को देखते हुए फसल का चयन, बीमारियों से प्रतिरोधक एवं ज्यादा उपज वाले बीजों का चुनाव, टपक सिंचाई, जैविक खाद का खेत पर उत्पादन एवं उपयोग, उद्यानिकी एवं पषुपालन का समावेष आदि के समन्वय से ही खेती करना होगी। उप संचालक कृषि श्री ओ.पी.चौरे ने कहा कि अगले पॉंच वर्षो में कृषि से आय को दोगुनी करना है जिसके लिए कृषि के साथ पषुपालन, डेयरी, मुर्गीपालन, मधुमक्खी पालन आदि को जोड़ना ही पड़ेगा, क्योंकि ये व्यवसाय एक दूसरे से जुड़े हुए है। उप संचालक उद्यानिकी श्री एस. एम. पटेल ने ड्रिप सिंचाई के फायदे बतलाये व योजना के लाभ लेने हेतु कृषकों का आव्हान किया।  
    वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. डी.के. वाणी ने सभी अतिथियों व कृषकों का स्वागत करते हुए कार्यक्रम की रूपरेखा बतायी। इससे पूर्व तकनीकी सत्र में डॉ. वाय.के. षुक्ला ने मृदा में पोषक तत्वों के संतुलित उपयोग, डॉ. आशीष बोबड़े ने चने व गेंहू में रोग व कीट नियंत्रण, डॉ. रावत ने उन्नत बीज, डॉ. रूपेश जैन ने चारा उत्पादन, डॉ. एम.के. तिवारी ने समन्वित कृषि, डॉ. एम.के. गुप्ता ने कम लागत तकनीक, डॉ. डी.डी. पटेल ने बीज उत्पादन पर व्याख्यान दिये व कृषकों की शंकाओं का समाधान किया। कार्यक्रम का संचालन डॉ. एम.के.गुप्ता ने किया व कृषि अधिकारी श्री गोयल ने सहयोग किया व श्री डॉ. सुभाष रावत ने आभार माना।                   
(56 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जनवरीफरवरी 2017मार्च
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
303112345
6789101112
13141516171819
20212223242526
272812345
6789101112

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer